Tuesday, March 15, 2022

In News : JNCASR developed touch-less touch screen technology : It can control the virus spreading ?

विकसित की टच-लेस टच स्क्रीन प्रौद्योगिकी इससे लग सकती है, संपर्क से फैलने वाले वायरस पर लगाम ?

यूपीएससी परीक्षा का पाठ्यक्रम बहुत बड़ा होता है यह तो सब जानते हैं। इसमें कई विषय हाल ही के दिनों में चल रही बहस और मुद्दों से संबंधित हो सकते हैं। हाल के समय का मतलब एक वर्ष नहीं है, बल्कि यह एक से लेकर तीन साल तक की घटनाओं से संबंधित हो सकते हैं। उम्मीदवारों के मन में हमेशा यह सवाल रहता है कि इतना बड़ा घटनाक्रम कैसे cover करें? ऐसे विषयों से संबंधित डेटा का प्रामाणिक स्रोत क्या होना चाहिए? उन insights को कैसे प्रस्तुत करें? आइए जानते हैं आज के विडियो में। 

नमस्कार, स्वागत है आपका Prabhat Exam के Youtube Channel पर। ये एक ऐसा Platform है, जहां आपको मिलती हैं सभी Competitive exams से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां, जो आपकी किसी भी exam में सफल होने में काफी मदद कर सकती हैं। अगर आप हमारे YouTube Channel पर पहली बार आए हैं, तो हमें Like और Subscribe ज़रूर करें और हमारे latest videos और updates सबसे पहले आप तक पहुँचें इसके लिए Bell icon को press करना न भूलें। तो आइए शुरुआत करते हैं आज के video की, जो है –

विकसित की टच-लेस टच स्क्रीन प्रौद्योगिकी  


•दुनिया में कोरोना संक्रमण ने कई तकनीकों में बदलाव ला दिए हैं। विशेषकर, कोशिश यही है कि जिन चीजों को छूने से संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है, उनमें परिवर्तन किए जाएं।

•ऐसी ही एक टच स्क्रीन तैयार हो गई है, जो 9 सेमी की दूरी से अपने आसपास होनी वाली गतिविधियों को पकड़ लेगी। यानी बिना टच किए यह स्क्रीन आपके निर्देशों को फॉलो कर लेगी।

 Touch-less Touch Screen:संक्रमण को फैलने से रोकेगी

भारतीय वैज्ञानिकों ने कम लागत वाला एक टच-कम-प्रॉक्सिमिटी सेंसर अर्थात स्पर्श-सह-सामीप्य संवेदक विकसित करने के लिए प्रिंटिंग तकनीक के जरिये एक किफायती समाधान प्रदान किया है जिसे टचलेस टच सेंसर कहा जाता है।

•कोरोनावायरस महामारी ने हमारी जीवन शैली को महामारी परिदृश्यों के अनुकूल बनाने के प्रयासों को तेज कर दिया है।

•कामकाज स्वाभाविक रूप से वायरस फैलने के जोखिम को कम करने के लिए रणनीतियों से प्रेरित हो गया हैं, खासतौर से सार्वजनिक स्थलों पर जहां सेल्फ-सर्विस कियोस्क, एटीएम और वेंडिंग मशीनों पर टचस्क्रीन लगभग अपरिहार्य हो गए हैं।

 JNCASR  के वैज्ञानिकों ने की तैयार

हाल ही में भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के स्वायत्त संस्थानों के नैनो और सॉफ्ट मैटर साइंसेज (सीईएनएस) तथा जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस एंड साइंटिफिक रिसर्च (जेएनसीएएसआर), बेंगलुरु के वैज्ञानिकों ने प्रिंटिंग एडेड पैटर्न (लगभग 300 माइक्रोन का रिजॉल्यूशन) पारदर्शी इलेक्ट्रोड के उत्पादन के लिए एक अर्ध-स्वचालित उत्पादन संयंत्र स्थापित किया है

अगर आपको हमारा ये video पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर, एक नए video के साथ।

देखते रहिए, 

Prabhat Exams

नमस्कार!

Please Follow Us :  Youtube  Twitter  Telegram  Facebook  Instagram  Whatsapp


No comments:

Post a Comment