Friday, November 6, 2020

    

6 November  2020 Current Affairs in Hindi | Current Affairs Today | Daily Current Affairs Show |  Prabhat Exam

इस श्रृंखला में हम प्रतियोगी परीक्षा के दृष्टिकोण से दिन के महत्वपूर्ण वर्तमान मामलों को कवर करते हैं। हम विभिन्न समाचार पत्रों और वेब पोर्टलों से महत्वपूर्ण समाचारों को कवर करते हैं। इस करंट अफेयर शो को देखने के बाद आपको किसी भी न्यूज पोर्टल पर जाने की या न्यूजपेपर पढ़ने की आवश्यकता नहीं है।    



For Download PDF - Click here

1)   अमेरिकी राष्टरपति चुनाव के नतीजे:

इस समय जब हम यह विडियो रिकॉर्ड कर रहे है तब डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बिडेन अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में 264 सीटों से लीड कर रहे है। अमेरिकी राष्टरपति चुनाव के विजेता को एक प्रणाली के माध्यम से चुना जाता है जिसे निर्वाचक मंडल कहा जाता है। इस प्रणाली के तहत अमेरिका के हर राज्य  को कई इलेक्टोरल कॉलेज वोट दिए जाते हैं।  अधिक आबादी वाले राज्यों को अधिक चुनावी कॉलेज वोट मिलते हैं।

 

 एक उम्मीदवार को चुनाव जीतने के लिए 270 इलेक्टोरल कॉलेज वोट (50% प्लस एक) जीतने की आवश्यकता होती है।

 


 इन नियमों के कारण, एक उम्मीदवार राष्ट्रीय स्तर पर सबसे अधिक वोट प्राप्त किए बिना चुनाव जीत सकता है।  यह पिछले चुनाव में हुआ था, जिसमें डोनाल्ड ट्रम्प ने अधिकांश चुनावी कॉलेज वोट जीते थे, हालांकि अमेरिका भर में हिलेरी क्लिंटन को अधिक लोगों ने वोट दिया था।

 

2)            संसद शीतकालीन सत्र 2020


केंद्र सरकार ने 21 दिसंबर, 2020 से संसद के दो सप्ताह के शीतकालीन सत्र को आयोजित करने की योजना बनाई है. 10 नवंबर, 2020 को बिहार राज्य विधानसभा के चुनाव परिणाम निकलने के बाद, इस संबंध में अंतिम निर्णय लिया जाएगा.

केंद्र को यह उम्मीद है कि, नवंबर के तीसरे सप्ताह तक बिहार में नई सरकार के गठन और शपथ ग्रहण समारोह सहित बिहार विधानसभा चुनाव सभी औपचारिकताएं पूरी हो जाएंगी.

 संसद का शीतकालीन सत्र आमतौर पर नवंबर के तीसरे सप्ताह में शुरू होता है. इस साल यह सत्र दिसंबर के तीसरे सप्ताह तक स्थगित किया जा सकता है.

इस वर्ष संसद के शीतकालीन सत्र का समय 21 दिसंबर, 2020 और 2 जनवरी, 2021 के बीच होने की संभावना है, जबकि संसद का बजट सत्र 30 जनवरी को आयोजित किया जा सकता है.

 

ऐसा पहली बार नहीं होगा कि, भारत की संसद का शीतकालीन सत्र दिसंबर के महीने में शुरू होगा और जनवरी माह के पहले सप्ताह में समाप्त होगा. भारत की 16 वीं लोकसभा का शीतकालीन सत्र भी दिसंबर में आयोजित किया गया था जोकि 08 जनवरी, 2019 तक चला था. संसद ने 23 दिन बाद फिर से बजट सत्र के लिए बैठक की थी.

 

हालांकि, वर्तमान तिथियां अस्थायी हैं, सरकार पहले मंत्रालयों द्वारा प्रस्तावित विधायी एजेंडे की समीक्षा करेगी और फिर, इस संबंध में अंतिम निर्णय लेगी.

 

2)संसद शीतकालीन सत्र 2020

भारतीय वायुसेना को तीन और राफेल लड़ाकू विमान की डिलीवरी मिल गई है. इससे पहले पांच राफेल विमानों का पहला बेड़ा 28 जुलाई 2020 को भारत पहुंचा था. इन्हें 10 सितंबर 2020 को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था. इन तीन विमानों की लैंडिंग के साथ ही भारत में राफेल लड़ाकू विमानों की संख्या 8 हो गई है.

 




राफेल लड़ाकू विमानों की तैनाती पहले ही की जा चुकी है. लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअव कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के साथ जारी तनाव के बीच उन्हें लद्दाख में तैनात किया गया. राफेल के लिए अलग-अलग बैच में भारतीय वायुसेना के पायलटों को फ्रांस में ट्रेनिंग दी जा रही है.

भारत को अगले साल अप्रैल तक कुल 21 राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस से मिलेंगे. आज तीन विमानों की लैंडिंग के साथ ये 8 हो जाएंगे. भारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमानों के लिए सौदा किया है.

 

3)  भारतीय वायुसेना को आज मिलें तीन और राफेल लड़ाकू विमान

भारतीय वायुसेना को तीन और राफेल लड़ाकू विमान की डिलीवरी मिल गई है. इससे पहले पांच राफेल विमानों का पहला बेड़ा 28 जुलाई 2020 को भारत पहुंचा था. इन्हें 10 सितंबर 2020 को भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था. इन तीन विमानों की लैंडिंग के साथ ही भारत में राफेल लड़ाकू विमानों की संख्या 8 हो गई है.

 

राफेल लड़ाकू विमानों की तैनाती पहले ही की जा चुकी है. लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअव कंट्रोल (एलएसी) पर चीन के साथ जारी तनाव के बीच उन्हें लद्दाख में तैनात किया गया. राफेल के लिए अलग-अलग बैच में भारतीय वायुसेना के पायलटों को फ्रांस में ट्रेनिंग दी जा रही है.

भारत को अगले साल अप्रैल तक कुल 21 राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस से मिलेंगे. आज तीन विमानों की लैंडिंग के साथ ये 8 हो जाएंगे. भारत ने फ्रांस के साथ 36 राफेल लड़ाकू विमानों के लिए सौदा किया है.


4)           राफेल विमान:

राफेल विमान कई खूबियों से लैस है. यही वजह है कि इसको दुनिया के कुछ ताकतवर फाइटर जेट में शामिल किया जाता है. ये विमान 1800 किमी प्रति घंटे की गति तक पहुंचने में सक्षम है.

 




राफेल के अचूक निशाने से दुश्मन किसी तरह नहीं बच सकता. राफेल विमान अपने साथ कई मिसाइलों को लेकर उड़ान भर सकता है. राफेल विमान हिमालय के ऊपर बेहद सर्द मौसम में भी उड़ान भरने में सक्षम है. इस तरह की खासियत हर लड़ाकू विमान में नहीं होती है.

 

राफेल विमान स्टील्थ टेक्नोलॉजी से लैस है. इसका अर्थ है कि यह दुश्मन के राडार को चकमा देने के ताकत रखता है. इन विमानों को अब हैमर मिसाइलों से भी लैस किया जाएगा. इन मिसाइलों की खासियत है कि नो स्केप जोन में अगर कोई भी लड़ाकू विमान दिखाई दिया तो ये विमान उसको भी मार गिरा सकेगा.

 

राफेल एक मिनट में 18 हजार मीटर की ऊंचाई पर जा सकता है. इस विमान का कॉम्बैट रेडियस 3700 किलोमीटर है. इस विमान में हवा में ही ईंधन भरने की क्षमता है, इसलिए ये एक ही समय में अधिक दूरी तय कर सकता है.

5)  मालाबार नौसैनिक अभ्यास: क्वाड देशों के साथ भारत का नौसेना-अभ्यास शुरू

मालाबार नौसैनिक अभ्यास के 24वें संस्करण का पहला चरण 03 नवंबर 2020 को बंगाल की खाड़ी में विशाखापत्तनम में शुरू हुआ और यह अभ्यास 06 नवंबर तक जारी रहेगा. कोविड-19 के बीच आयोजित अभ्यास के पहले चरण में क्रॉस डेक फ्लाइंग, ऐंटी-सबमरीन समेत अन्य अभ्यास होंगे.

 

भारत ने पूर्वी लद्दाख में चीन से जारी सैन्य तनातनी के बीच अपने बहुचर्चित नौसैनिक अभ्यास मालाबार 2020 में ऑस्ट्रेलिया को भी शामिल करने का घोषणा किया है.

 

इस नौसेना अभ्यास में भारत और इसके मित्र देश अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल हैं. मालाबार अभ्यास का दूसरा चरण 17 से 20 नवंबर के बीच अरब सागर में होगा. चीन इस अभ्साय को हिंद प्रशांत महासागर क्षेत्र में इन चारों देशों के शक्ति प्रदर्शन के तौर पर देख रहा है और इसे अपने लिए खतरा मान रहा है. यह पहला मौका होगा जब क्वाड के चारों देशों भारत, अमेरिका, जापान और आस्ट्रेलिया की नौसेनाएं एक साथ युद्धाभ्यास करेंगी. आस्ट्रेलिया ने मालाबार अभ्यास में 2007 में हिस्सा लिया था, लेकिन चीन की आपत्तियों के बाद वह इससे अलग हो गया था।

 

6)           मालाबार नौसैनिक अभ्यास

मालाबार नौसैनिक अभ्यास की शुरुआत साल 1992 में भारत-अमेरिका के बीच हुई थी. साल 2015 में जापान इसका हिस्सा बना. यह सालाना अभ्यास साल 2018 में फिलीपींस के समुद्री इलाके गुआम तट और साल 2019 में जापान के समुद्री इलाके में हुआ था.

 



मालाबार नौसैनिक अभ्यास भारत-अमेरिका-जापान की नौसेनाओं के बीच वार्षिक रूप से आयोजित किया जाने वाला एक त्रिपक्षीय सैन्य अभ्यास है. साल 2015 में इस अभ्यास में जापान के शामिल होने के बाद से यह एक त्रिपक्षीय सैन्य अभ्यास बन गया.

 

ऑस्ट्रेलिया पिछले कई सालों से इस युद्धाभ्यास में शामिल होने को लेकर रुचि दिखा रहा था. चीन के प्रति बढ़ती नकरात्मक धारणाओं और उसके साथ रिश्ते कटु होने के बाद ऑस्ट्रेलिया इस बार युद्धाभ्यास में शामिल हो रहा है.

7)न्याय कौशल:

भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) शरद अरविंद बोबड़े ने नागपुर में न्यायिक अधिकारियों के प्रशिक्षण संस्थान में भारत के पहले ई-संसाधन केंद्र 'न्याय कौशल' का उद्घाटन किया है

 


 न्याय कौशल, सर्वोच्च न्यायालय, देश के किसी भी उच्च न्यायालय और जिला न्यायालय में मामलों की ई-फिलिंग की सुविधा देगा।

 

केंद्र का उद्घाटन 31 अक्टूबर 2020 को न्यायिक अधिकारी प्रशिक्षण संस्थान में किया गया था।

Question of the Day ?

भारत ने विकास परियोजनाओं के लिए मध्य एशिया के लिए लाइन ऑफ क्रेडिट का कितना विस्तार करने का निर्णय लिया है?

a.    1.5 बिलियन अमरीकी डॉलर

b.    2 बिलियन अमरीकी डॉलर

c.    3 मिलियन अमरीकी डॉलर

d.    1 बिलियन अमरीकी डॉलर

Question of Yesterday-

7 नवंबर को ISRO द्वारा किस उपग्रह का प्रक्षेपण किया जाएगा?

a.    ASOS एक्स

b.    EOS-1

c.    LVX -2

d.    PVS -1

Ans- b) EOS -1


Please Like and subscribe our YouTube Channel

Prabhat Exam - http://bit.ly/PrabhatExam

Follow us on Telegram: https://telegram.me/prabhatexam

Visit us to our Blog :  https://prabhatexam.blogspot.com/



No comments:

Post a Comment