Monday, October 12, 2020

IAS Toppers के ये 10 टिप्स आपकी किस्मत बदल देगी

क्या आपने कभी ये सोचा है कि UPSC Topper कैसे बना जाए, toppers ने कैसे अपनी पढाई की, कैसे होते हैं ये toppers, या फिर toppers की सफलता का राज क्या है? अगर नहीं, तो आजका ये विडियो पूरा देखिये. यकीन मानिए, ये विडियो में दिए गए toppers के सफलता के राज़ से आप अपनी ज़िन्दगी बदल सकते हैं. हमने toppers के ये सारे टिप्स को चुन चुन कर आपके लिए तैयार किया है

बस आपको ये करना है कि इन सारे टिप्स को आप बहुत ही सही ढंग से अपनाए, उन्हें फॉलो करें तो सफलता आपकी कदम चूमेगी. तो चलिए हम शुरू करते है पहले टिप्स के साथ:

कड़ी मेहनत और समर्पण

  • अनेकों Toppers के शैक्षिक बैक ग्राउंड, पारिवारिक स्थिति, आयु और श्रेणी के बावजूद सभी IAS टॉपर्स के बीच एक समानता है और वो है हार्ड वर्क और डेडिकेशन
  • जी हां, IAS टॉपर्स ने कहा है कि हमने अपनी मेहनत और समर्पण की वजह से सफलता हासिल की, जो परिवार, दोस्तों और उनके गुरुओं की मदद और समर्थन के कारण था।
  • टीना दाबी 2015 आईएएस टॉपर ने स्वीकार किया कि यह उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण की वजह से वह यूपीएससी आईएएस परीक्षा में ऑल इंडिया रैंक 1 हासिल करने में सक्षम हुई

सिलेबस को समझना

  • IAS की तैयारी करने वाले उम्मीदवारों को UPSC प्रीलिम्स और मेन्स के सिलेबस की पूरी जानकारी होनी चाहिए। यूपीएससी की तैयारी में सिलेबस बहुत महत्वपूर्ण है, यह उचित दिशा प्रदान करता है और इसके साथ आपकी समझ और विकसित हो जाती है कि सिविल सेवा परीक्षा में क्या पढ़ना है और क्या नहीं।

सभी टॉपर्स ने स्वीकार किया कि उन्होंने परीक्षा की तैयारी के लिए यूपीएससी के सिलेबस का अनुसरण किया।

उचित मार्गदर्शन और पारिवारिक सहयोग

  • यूपीएससी की तैयारी में उम्मीदवारों को अपनी परीक्षा की तैयारी के लिए उचित मार्गदर्शन और समर्थन की आवश्यकता होती है। खासकर IAS इंटरव्यू के लिए।
  • सिविल सेवा परीक्षा में IAS साक्षात्कार सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह ज्ञान का परीक्षण नहीं है, बल्कि यह व्यक्तित्व का परीक्षण है। अधिकांश टॉपर्स ने स्वीकार किया कि उन्होंने विशेष रूप से साक्षात्कार की तैयारी के लिए विशेषज्ञों और गुरुजनों से मार्गदर्शन लिया

यूपीएससी के लिए वैकल्पिक विषय का चयन

  • जब आप अपनी IAS की तैयारी शुरू करते हैं तो आप में मोटिवेशन होता है, और जिसके कारण आप एक्स्ट्रा एफर्ट डाल कर अपनी पढाई करते हैं. पर क्या ये मोटिवेशन हमेशा बनी रहती है? शायद नहीं. इसलिए, उन विषयों को चुनना आवश्यक है, जिन में आप वास्तव में रुचि रखते हैं ताकि आप उन विषयों अधिक उत्साह के साथ पढ़ सकें

वैकल्पिक का चयन ऐसे कर सकते हैं:

  • सभी वैकल्पिक विषयों की सूची को अधिकतम 3 - 4 में शोर्ट लिस्ट कर लें
  • उन शॉर्टलिस्ट किए गए विषयों के सिलेबस को देखें
  • अपनी खुद की शैक्षणिक पृष्ठभूमि और ज्ञान के स्तर का मूल्यांकन करें।
  • विषयों में अपनी रुचि की जाँच करें।
  • एक विषय चुनें

मॉक टेस्ट

  • पिछले वर्षों प्रश्न पत्रों और मॉक टेस्ट के नियमित अभ्यास से उम्मीदवार अपनी ताकत और कमजोरी का विश्लेषण कर सकता है. UPSC परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले सभी IAS टॉपर्स ने स्वीकार किया है कि उन्होंने अपनी परीक्षा की तैयारी के लिए कुछ संस्थानों या ऑनलाइन पोर्टल टेस्ट सीरीज कार्यक्रमों का अनुसरण किया है
  • प्रीलिम्स और मेन्स दोनों के लिए मॉक टेस्ट प्रश्न पत्र महत्वपूर्ण हैं। प्रीलिम्स में यह छात्र को अपनी गलतियों को सुधारने का मौका देता है और मुख्य परीक्षा में यह उनके उत्तर लेखन कौशल को बेहतर बनाने में मदद करता है।

उत्तर लिखने का अभ्यास

  • UPSC सिविल सेवा परीक्षा का असली टेस्ट आपके उत्तर लेखनी से होता है। रातोंरात अपनी उत्तर लेखन शैली को बदलने के लिए कोई जादू की छड़ी नहीं है. इसके अलावा toppers कहते हैं कि मेन्स परीक्षा में अच्छी गुणवत्ता के उत्तर लिखने के लिए परीक्षा में बैठने से पहले लेखन अभ्यास करना होता

नोट्स बनाना

  • बाज़ार से अलग अलग स्टडी मटेरियल खरीदने से बेहतर है खुद का नोट्स बनाना. परफेक्ट नोट बनाने का क्लासिक उदाहरण IAS टॉपर नितिन सिंघानिया है। उन्होंने सभी विषयों के लिए अपने स्वयं के नोट्स तैयार किए और इसमें उन्होंने कला और संस्कृति पर एक विस्तृत नोट तैयार किया, जिसे अब सभी आईएएस उम्मीदवारों द्वारा रेफेर किया जा रहा है। वास्तव में, यह कला और संस्कृति विषय का एक प्राथमिक स्रोत बन गया है

अख़बार पढ़ना

  • अख़बार पढ़ना आवश्यक है ऐसा कहना है 2015 IAS टॉपर टीना डाबी का
  • यूपीएससी परीक्षाओं में हिंदू अखबार पढ़ना अनिवार्य है, जिसके बिना किसी को वर्तमान मुद्दों पर अच्छा ज्ञान नहीं हो सकता है। यूपीएससी वर्तमान मुद्दों को अधिक महत्व देता है यह प्रारंभिक, मुख्य या साक्षात्कार है।
  • सभी टॉपर्स ने स्वीकार किया है कि उन्होंने करंट अफेयर्स के लिए नियमित रूप से राष्ट्रीय समाचार का पालन किया। अधिकांश टॉपर्स ने हिंदू या इंडियन एक्सप्रेस का अनुसरण किया

Regular Revision

  • IAS परीक्षा की तैयारी में Revision बहुत महत्वपूर्ण है। उचित Revision के बिना कोई भी प्रतियोगी परीक्षा में सफल नहीं हो सकता है।
  • 2015 के आईएएस टॉपर चद्र मोहन गर्ग ने भी स्वीकार किया कि वे उचित Revision के कारण इस विशिष्ट IAS परीक्षा को क्रैक करने में सक्षम थे। वह साथी उम्मीदवारों को प्रीलिम्स परीक्षा से पहले तीन बार Revision करने की सलाह देता है। और मुख्य परीक्षा में उम्मीदवारों को प्रीलिम्स के बाद वैकल्पिक विषय को Revision करने की आवश्यकता होती है और पहले से तैयार किए गए विषयों में बस नए सूचनाओं को जोड़ते रहना चाहिए

Time Management

  • सफल होने के लिए यह जानना चाहिए कि समय का सही उपयोग कैसे किया जाए। (याद रखें: यह टॉपर और आप के लिए समान 24 घंटे हैं।) जो सबसे ज्यादा मायने रखता है वह यह है कि आईएएस की तैयारी में आप अपने अध्ययन का कितना प्रभावी उपयोग करते हैं।
  • 2012 के आईएएस टॉपर हरिता वी कुमार कहती हैं कि कुछ घंटों तक पढ़ाई करने के बजाय सिलेबस को भागों में बांटें और तय करें कि आप हर दिन कितना कवर करेंगे. इससे आप प्रभावी रूप से समय का उपयोग कर सकेंगे

👉Visit us: Prabhat UPSC Books

👉Visit For: UPSC/IAS Video

👉Follow us: You Tube Telegram Facebook Twitter

 

 

 

 

 


No comments:

Post a Comment