Monday, September 28, 2020

UPSC 2020 की तैयारी के लिए NCERT Books कैसे पढ़ें?

यदि आप यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो ये संभव है कि आप अब तक कई बार सुन चुके होंगे कि एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों को अच्छी तरह से पढ़ें. ’वास्तव में, इस कथन को कदापि गलत नहीं ठहराया जा सकता है, क्योंकि कुछ सम्बन्ध इसका UPSC से इस तरह है कि इसके बिना आप UPSC को क्रैक करने का सोच नहीं सकते.  आप UPSC परीक्षा के लिए आवश्यक सभी अन्य पुस्तकों को पढ़ सकते हैं, लेकिन सुनिश्चित करें कि आपने NCERT पाठ्यपुस्तकों को कक्षा छठी से बारहवीं कक्षा तक अच्छे से पढ़ा है. आज इस विडियो के जरिये हम आपको UPSC परीक्षा के लिए NCERT का अध्ययन कैसे किया जाए इसके बारे में कुछ टिप्स शेयर करेंगे 

तो सबसे पहले क्या एनसीईआरटी पुस्तकों को पढ़ना आवश्यक है?

हां, और उसके ये कारण हैं:

१. एनसीईआरटी किताबें पूरी तरह विश्वसनीय हैं उनमें दी गई जानकारी को सच और प्रामाणिक के रूप में लिया जा सकता है.

२. उदाहरण के लिये, एनसीईआरटी पुस्तकों में प्राचीन, मध्ययुगीन और आधुनिक भारत और विश्व इतिहास के बारे में जानने वाली बुनियादी चीजों को शामिल किया गया है.

३. इन पुस्तकों की भाषा सरल है.

४. एनसीईआरटी पुस्तकों से कभी-कभी प्रश्न पूछे जाते हैं.

कौन सा संस्करण बेहतर है? नया या पुराना?

दोनों संस्करण काफी अच्छे हैं. उदाहरण के लिये, आधुनिक भारतीय इतिहास के लिए पुरानी किताब जो बिपन चंद्रा द्वारा लिखित है वह बेहतर है क्योंकि इससे कई प्रश्न सीधे-सीधे उठाए जाते हैं 

एनसीईआरटी पुस्तकों को कैसे पढ़ते हैं?

प्रत्येक अध्याय के अंत में प्रश्नों के माध्यम से जाओ और फिर अध्याय पढ़ें इससे प्रत्येक विषय और घटना के तुलनात्मक महत्व को समझने में सहायता मिलेगी और महत्वपूर्ण विषयों से प्रश्न पूछे जाने की अधिक संभावना है 

यदि एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों को पढ़ा तो मैं कितने अंक हासिल कर सकता हूं

उस पर एक अनुमान लगाना असंभव है लेकिन एनसीईआरटी पढ़ने से आप बुनियादी तौर पर मजबूत हो सकते हैं जो सीधे या परोक्ष रूप से आपको कई सवालों के जवाब देने और अंक प्राप्त करने में मदद मिलती हैं 

क्या स्पेक्ट्रम की आधुनिक इतिहास जैसी पुस्तकों को पढ़ने के लिए पर्याप्त नहीं है?

एनसीईआरटी की किताबें केवल शुरुआत करने के लिए ही उचित नहीं हैं बल्कि विभिन्न विषयों को संशोधित करने के लिए भी बहुत उपयोगी हैं, क्योंकि ये यथासंभव कम वाक्यों में ही विषय की व्यापक जानकारी प्रदान करती हैं. अपनी तैयारी के लिये आप अन्य पुस्तकों के साथ इनका उपयोग कर सकते हैं  

क्या एनसीईआरटी पुस्तकों के नोट्स बनाने की आवश्यकता है?

तैयारी के अंतिम चरण में महत्वपूर्ण बिंदुओं को दोहराना करना और उन्हें संशोधित करना अध्ययन के लिये पर्याप्त होता है  

एनसीईआरटी किताबें कितनी बार पढ़नी चाहिए?

यह अभ्यर्थी द्वारा किसी विषय या घटना और उसके महत्व की समझ के स्तर पर निर्भर करता है, यदि किसी भी तरह की शंका हो तो विषय को दोहराने में कोई आपत्ति नही होने चाहिये. एनसीईआरटी किताबों को कम से कम 3 महीने पहले से पढ़ना और समझना शुरू कर देना चाहिए और शुरू करने से पहले लक्ष्य रखें (जैसे आधुनिक भारत की एनसीईआरटी बुक के लिए 5 दिन बोलें) और इसी रणनीति के आधार पर आगे बढ़ें, ताकि आप अपना ध्यान केंद्रित कर सकें 

क्या यह एनआईसीईआर टेक्स्ट बुक कक्षा सात (७) से दस (१०) तक पढ़ना जरूरी है?

ध्यान रखें कि निचली कक्षा की पाठ्यपुस्तकों को पढ़ना बिल्कुल भी कठिन नहीं होता क्योंकि वे बहुत ही ज्यादा सरल होती हैं, और आप एक हफ्ते में उन्हें समाप्त कर सकते हैं 

नौकरी करते समय तैयारी करने वाले लोगों में एनसीईआरटी पुस्तकों को पढ़नें के लिये समय निकालना भी एक समस्या है. समय की बाधाओं वाले लोगों के लिए यह अधिक महत्वपूर्ण है कि वो समझें कि यह एकमात्र स्रोत है जो विषयों की संक्षिप्त और सरल तरीके से लगभग सभी बुनियादी जानकारी देता है और यह उन्हें पढ़ने के लिए ज्यादा समय भी नहीं लेता है 


👉Visit us: Prabhat UPSC Books

👉Visit For: UPSC/IAS Video

No comments:

Post a Comment