Wednesday, September 30, 2020

30 September 2020 Daily Current Affairs Show in Hindi | Current Affairs Today

Download our PDF: https://bit.ly/2Sa17yP

इस श्रृंखला में हम प्रतियोगी परीक्षा के दृष्टिकोण से दिन के महत्वपूर्ण वर्तमान मामलों को कवर करते हैं।  हम विभिन्न समाचार पत्रों और वेब पोर्टलों से महत्वपूर्ण समाचारों को कवर करते हैं। इस करंट अफेयर शो को देखने के बाद आपको किसी भी न्यूज पोर्टल पर जाने की या न्यूजपेपर पढ़ने की आव्यशकता नहीं है।

1) चीन का कैट क्यू वायरस भारत में बीमारी का कारण बन सकता है: आईसीएमआर

जब भारत कोविद -19 से जूझ रहा है पैदा करता है, तब इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के वैज्ञानिकों ने एक और वायरस पाया है - कैट क्यू वायरस - बड़े पैमाने पर चीन में रिपोर्ट किया गया है

यह मनुष्यों में ज्वर की बीमारी, मेनिन्जाइटिस और इन्सेफेलाइटिस का कारण बन सकता है।  चीन और वियतनाम में क्यूलेक्स मच्छरों और सूअरों में इस वायरस (CQV) की उपस्थिति की सूचना मिली है।

भारत में क्यूलेक्स मच्छरों की इसी तरह की प्रजातियों के प्रसार को ध्यान में रखते हुए, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) और आईसीएमआर, पुणे के वैज्ञानिकों ने भारत में राज्यों में परीक्षण किए गए 883 मानव सीरम नमूनों में से दो में वायरस के लिए एंटीबॉडी पाए हैं, जो दर्शाता है कि उन व्यक्तियों में किसी समय संक्रमण फैल गया।  हालांकि, अध्ययन के समय किसी भी मानव या पशु के नमूने में वायरस नहीं पाया गया था।  एंटीबॉडीज मनुष्यों की प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा बनाई जाती हैं जब एक वायरस शरीर पर हमला करता है।

2) हाइड्रोजन — सीएनजी के इस्तेमाल को लेकर अधिसूचना जारी: 

परिवहन के लिए वैकल्पिक स्वच्छ ईंधन अपनाने की दिशा में एक बड़ा कदम उठाते हुए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सीएनजी इंजनों में एच-सीएनजी (हाइड्रोजन का 18% मिश्रण) के उपयोग की अनुमति दे दी है। मंत्रालय परिवहन के लिए स्वच्छ ईंधन के तहत विभिन्न वैकल्पिक ईंधन को अधिसूचित कर रहा है। भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने भी मोटर वाहन के लिए हाइड्रोजन वाले कंप्रेस्ड नेचुरल गैस (एच-सीएनजी) के विनिर्देशों (आईएस 17314: 2019) को ईंधन के रूप में विकसित किया है।  सीएनजी-इंजन की तुलना में एच-सीएनजी का उपयोग  उत्सर्जन में कमी ला सकता। 

3) अल्ट्रा-वायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप–एस्ट्रोसैट के पांच साल पूरे:

अल्ट्रा-वायलेट इमेजिंग टेलीस्कोप–एस्ट्रोसैट आकाश में भारत की पहली बहु-तरंगदैर्ध्य खगोलीय वेधशाला है। अपने संचालन के पांच वर्षों में, इसनेकई उपलब्धियां हासिल की हैं। इसने भारत और विदेश के वैज्ञानिकों द्वारा प्रस्तावित 800 अद्वितीय आकाशीय स्रोतों के1166पर्यवेक्षण-कार्य पूरे किये हैं।

इसने तारों, तारा समूहों की खोज की है और हमारे मिल्की वे आकाशगंगा में बड़े और छोटे उपग्रह आकाशगंगाओं का मानचित्रण किया है, जिसे मैगेलैनिक क्लाउड्स कहा जाता है, जो ब्रह्मांड में एक ऊर्जावान घटना है। 

इसकी बेहतर स्थानिक रिज़ॉल्यूशन क्षमता ने खगोलविदों को आकाशगंगाओं में तारों के निर्माण का पता लगाने के साथ-साथ स्टार क्लस्टर्स (पिछले नासा मिशन, गलेक्ससे 3 गुना बेहतर) के समाधान को सक्षम किया है। यूवीआईटीके पर्यवेक्षणों ने हाल ही में पृथ्वी से लगभग 10 बिलियन प्रकाश-वर्ष की दूरी पर स्थित एक आकाशगंगा की खोज की है

एस्ट्रोसैट को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा 28 सितंबर 2015 को लॉन्च किया गया था, जो एक महत्वपूर्ण उपग्रह साबित हुआ है और जो दूर के पराबैंगनी से लेकर कठोर एक्स-रे बैंड तक विभिन्न तरंगदैर्घ्य सीमा में एक साथ अवलोकन करने में सक्षम है।

4) हिमालयन चन्‍द्र टेलीस्कोप के 20 वर्ष पूरे: 

लद्दाख के ठंडे, शुष्क रेगिस्तान में, समुद्र तल से 4500 मीटर ऊपर, दो दशकों से, भारतीय खगोलीय वेधशाला (आईएओ) में 2 मीटर चौड़ाई वाला ऑप्टिकल इन्फ्रारेड हिमालयन चन्‍द्र टेलीस्कोप (एचसीटी) नक्षत्रीय धमाकों, धूमकेतू, छोटे तारों और एक्‍सो-प्‍लेनेट की खोज में रात के आसमान को बारीकी से देख रहा है। इस वर्ष यह अपना 20 वा जन्मदिन मना रहा है। हिमालयी चन्द्र टेलीस्कोप का उपयोग कई समन्वित अंतर्राष्ट्रीय अभियानों में नक्षत्रीय धमाकों,धूमकेतु और एक्‍सो-प्‍लेनेट निगरानी के लिए किया जाता है, और इसने इन अध्ययनों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में किस राज्य में कोसी रेल महासेतु के साथ यात्री सुविधाओं से संबंधित रेल की 12 परियोजनाओं का उद्घाटन किया?

a.    पंजाब

b.    राजस्थान

c.    बिहार

d.    झारखंड

परमाणु हथियारों के निषेध पर संधि परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए पहला बहुपक्षीय कानूनी रूप से बाध्यकारी साधन है। इसको किस वर्ष अपनाया गया था।  

2017

2015

1976

1986

👉Visit us: Daily Current Affairs Videos in Hindi

👉Follow us: You Tube Telegram Facebook Twitter

No comments:

Post a Comment