Saturday, April 2, 2022

A Day of an IAS officer || कैसा होता है एक IAS Officer का पूरा दिन ? || UPSC Exam || Prabhat exam

कैसा होता है एक IAS Officer का पूरा दिन

हर यूपीएससी aspirants की dream सर्विस आईएएस ही होती है। उसकी जॉब प्रोफ़ाइल, उसे मिलने वाले powers और facilities अक्सर aspirants को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक आईएएस अधिकारी का पूरा दिन कितना व्यस्त होता है। यह तो सब को पता है कि एक आईएएस अधिकारी के कोई फ़िक्स्ड वर्किंग आवर्स नहीं होते हैं लेकिन आखिर वह ऐसे कौन से काम करता है कि उसे दिन में एक मिनट भी फ्री नहीं मिलता है? आज के वीडियो में हम इसी पर चर्चा करने वाले हैं, तो आइए शुरू करते हैं।

नमस्कार, स्वागत है आपका Prabhat Exam के Youtube Channel पर। ये एक ऐसा Platform है, जहां आपको मिलती हैं सभी Competitive exams से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां, जो आपकी किसी भी exam में सफल होने में काफी मदद कर सकती हैं। अगर आप हमारे YouTube Channel पर पहली बार आए हैं, तो हमें Like और Subscribe ज़रूर करें और हमारे latest videos और updates सबसे पहले आप तक पहुँचें इसके लिए Bell icon को press करना न भूलें। तो आइए शुरुआत करते हैं आज के video की, जो है -

IAS Officer का पूरा दिन‍।

  • एक आईएएस अधिकारी का दिन आम तौर पर सुबह 5 बजे के आसपास शुरू हो जाता है। व्यायाम और अन्य निजी कार्यों के बाद वह सुबह 15 – 20 मिनट अखबार पढ़ता है। इसके पीछे लॉजिक यह है कि एक आईएएस अधिकारी से यह उम्मीद की जाती है कि वह सभी खबरों और खबरों के सभी पहलुओं से अनभिज्ञ न हो। इसके बाद वह अपने जूनियर officers से ब्रीफिंग लेता है और उन्हें आगे का एक्शन प्लान समझाता है। यह काम सुनने में जितना आसान लगता है उतना होता नहीं। 
  • दरअसल एक आईएएस अधिकारी के अंडर ढेर सारे जूनियर officers काम करते हैं। इन जूनियर officers के काम तो फ़िक्स्ड और लिमिटेड होते हैं लेकिन एक आईएएस अधिकारी को इन सबके काम का पूरा लेखा-जोखा रखना पड़ता है। उदाहरण के लिए, एक आईएएस अधिकारी जिले का revenue ऑफिसर भी होता है और उसके ऊपर ही कानून व्यवस्था की ज़िम्मेदारी भी होती है। वह मत्स्य पालन से संबन्धित काम पर निगरानी रखता है और उसे ही शिक्षा विभाग का भी ध्यान रखना पड़ता है। इस विवरण से आप यह तो समझ गए होंगे कि एक आईएएस अधिकारी के ऊपर कितनी की जिम्मेदारियाँ होती हैं।
  • एक आम दिन में वह 9 बजे कार्यालय पहुंचता है और फिर शुरू होता है मीटिंग्स का सिलसिला। और ये मीटिंग्स सिर्फ रसूखदार और महत्वपूर्ण लोगों से ही नहीं बल्कि आम लोगों के साथ भी होती हैं, जो अपनी शिकायतें और परेशानियाँ लेकर उसके पास आते हैं। आपने अक्सर देखा होगा कि आईएएस अधिकारी 2 या तीन फोन रखते हैं। असल में वह ऐसा किसी शौक या showoff के लिए नहीं करते बल्कि एक से अधिक फोन रखना उनकी मजबूरी होती है। सुबह जागने से लेकर रात को सोने तक आईएएस अधिकारी का फोन लगातार बजता रहता है और कभी-कभी तो ऐसा भी होता है कि उसे एक ही समय पर दो लोगों से फोन पर बात करनी पड़ती है।

  • आईएएस अधिकारी को दिन में कई बार फील्ड ट्रिप्स भी करने पड़ते हैं। इनमें अलग-अलग departments का दौरा और जिले के अंदर आने वाले blocks और गाँव में visit शामिल हैं। सामान्यतः शाम के समय उसे अपने seniors को दिन भर की briefing देनी पड़ती है। इसके बाद वह रात को 8 – 9 बजे तक घर पहुंचता है लेकिन उसका काम अभी भी खत्म नहीं होता। घर आने के बाद भी उसे 3 – 4 घंटे काम करना पड़ता है जिसमें important documentations, चिट‍्ठी पत्रों के जवाब देना, court appearances की तैयारी और अगले दिन के काम की sorting और स्ट्रीमलाइनिंग शामिल हैं। यह सब करते-करते वह रात को 12 बजे के आस-पास फ्री होता है और उसे सोने का समय मिलता है। अगले दिन सुबह 5 बजे फिर से उसका दिन शुरू हो जाता है।
  • दोस्तों, यह तो बात हुई normal days की, जबकि किसी खास समय में जैसे कि चुनाव का समय या किसी वीवीआईपी visit के दौरान या law and order भंग होने की स्थिति उत्पन्न होने पर उसे कई बार रात को भी घर आने का समय भी नहीं मिलता है। 
  • इसके अलावा अगर कोई आईएएस अधिकारी सचिवालय में पोस्टेड है तो उसके working hours और प्रोफ़ाइल दोनों बदल जाते हैं। सचिवालय में काम करने वाले अधिकारी को comparatively ज्यादा flexible working आवर्स मिलते हैं और वह परिवार के साथ अधिक समय व्यतीत कर पाता है। इसी तरह जैसे-जैसे एक आईएएस अधिकारी का promotion होता है उसकी जिम्मेदारियाँ भी बढ़ती हैं और साथ ही बढ़ता है काम का लोड। उदाहरण के लिए, एक मुख्य सचिव को सीधे मुख्यमंत्री को रिपोर्ट करना पड़ता है और उसे पूरे राज्य के सभी विभागों के सभी प्रकार के काम की जानकारी न सिर्फ रखनी पड़ती है बल्कि राज्य की उन्नति के लिए जरूरी निर्णय भी लेने पड़ते हैं।
  • तो अब आप यह समझ गए होंगे कि एक आईएएस अधिकारी को जो powers मिलती हैं उनके साथ जिम्मेदारियाँ भी आती हैं और जिनके अंदर उन जिम्मेदारियों को निभाने की क्षमता होती है वही आईएएस बन पाते हैं।

अगर आपको हमारा ये video पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर, एक नए video के साथ।

देखते रहिए, 

Prabhat Exams

नमस्कार!


You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa



No comments:

Post a Comment