Friday, December 18, 2020

How to Prepare environment for UPSC || Prabhat exam

Preparation Environment for UPSC: UPSC के Preparation के लिए पर्यावरण की तैयारी कैसे करें | 

UPSC ने वर्ष 2011 में सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा के सामान्य अध्ययन (पेपर-1) में एक नया विषय प्रस्तुत किया, जिसे हम पर्यावरण पारिस्थितिकी, जैव-विविधता और जलवायु परिवर्तन के नाम से जानते हैं। हालांकि UPSC ने पाठ्यक्रम में यह कथन दिया है, कि पाठ्यक्रम के इस विषय में किसी प्रकार की विशेषज्ञता की आवश्यकता नहीं है, लेकिन environment एवं पारिस्थितिकी क्षेत्र में होने वाले निरंतर विकास एव परिवर्तनों के दृष्टिकोण से इसे महत्वपूर्ण माना जाता है।  

नमस्कार, स्वागत है आपका Prabhat Exam के Youtube Channel पर। ये एक ऐसा Platform है, जहां आपको मिलते है सभी Competetive exams से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां, जो आपको किसी भी exam में सफल में होने में काफी मदद कर सकती है। अगर आप हमारे YoutubeChannel पर पहली बार आए हैं, तो हमें Like और Subscribe ज़रूर करें और हमारे latest videos और updates सबसे पहले आप तक पहुंचे, इसके लिए Bell icon को press करना ना भूलें। तो आइए शुरूआत करते है आज के video की, जो है- UPSC तैयारी के लिए पर्यावरण की तैयारी कैसे करें?


पर्यावरण महत्वपूर्ण विषय क्यों ?

  • environment pollution  से जुड़े विषयों को पढ़ने के लिए NCERT की 9वीं से 12वीं तक की किताबों को पढ़ना चाहिए। साथ ही इंटरनेट पर मौजूद पर्यावरण से सम्बंधित जानकारियां भी लाभदायक होती हैं। पर्यावरण से सम्बंधित IGNOU के पाठ्य सामग्री भी परीक्षा के दृष्टिकोण से लाभदायक है।
  • अभ्यर्थी को जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता सम्बंधित खतरे, ऊर्जा आदि Topic का updation जारी रखना चाहिए। इसके द्वारा अभ्यर्थी प्रारंभिक के साथ मुख्य परीक्षा में लाभान्वित हो सकते हैं।
  • समाचार पत्र environment के सभी क्षेत्रों की विस्तृत जानकारी देते हैं, साथ ही विज्ञान प्रगति का अध्ययन पर्यावरण के महत्वपूर्ण मुद्दों की जानकारी लिए लाभदायक है।
  • अभ्यर्थी को ज्यादा से ज्यादा पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए। प्रश्नों के अभ्यास के लिए अभ्यर्थी को प्रश्न पत्र पुस्तिका की सहायता लेनी चाहिए। छात्रों को इससे, एक तो प्रश्नों की प्रकृति को समझने में मदद मिलती है, साथ ही अवधारणा में भी स्पष्टता आती है।

पर्यावरण सम्बंधित मुद्दों का, विकास के क्षेत्र में महत्वपूर्ण स्थान है। सरकार की नीतियों में  चिंताएं, मुख्य रूप से शामिल रहती हैं। पर्यावरण संरक्षण और सतत विकास वर्तमान में वैश्विक मुद्दा है। 

environment pollution

सिविल सेवा परीक्षा में पिछले कुछ वर्षों से, environmental protection से संबंधित प्रश्नों में वृद्धि हो रही है, इसलिए अभ्यर्थियों को environment मुद्दों पर विशेष ध्यान देना जरूरी है। इस खंड की गंभीरता इस तथ्य से भी तय की जा सकती है कि यह General Studies (पेपर-1) के लगभग 25-30% अंको के प्रश्न इसी विषय से पूछे जाते हैं। यदि हम पिछले कुछ वर्षों में पर्यावरण, पारिस्थितिकी, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन खंड पर एक नजर डालें, तो हमें इस खंड के महत्व के बारे में जान सकते हैं। How to Prepare environment for UPSC

पर्यावरण विषय की तैयारी कैसे करें ?

  • Preparational Environment से जुड़े विषयों को पढ़ने के लिए NCERT की 9वीं से 12वीं तक की किताबों को पढ़ना चाहिए। साथ ही इंटरनेट पर मौजूद कैसे upsc के लिए पर्यावरण और पारिस्थितिकी के लिए तैयार करने के से सम्बंधित जानकारियां भी लाभदायक होती हैं। लिए से सम्बंधित IGNOU के पाठ्य सामग्री भी परीक्षा के दृष्टिकोण से लाभदायक है।
  • अभ्यर्थी को जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता सम्बंधित खतरे, ऊर्जा आदि Topic का updation जारी रखना चाहिए। इसके द्वारा अभ्यर्थी प्रारंभिक के साथ मुख्य परीक्षा में लाभान्वित हो सकते हैं।
  • समाचार पत्र environment के सभी क्षेत्रों की विस्तृत जानकारी देते हैं, साथ ही विज्ञान प्रगति का अध्ययन पर्यावरण के महत्वपूर्ण मुद्दों की जानकारी लिए लाभदायक है।
  • अभ्यर्थी को ज्यादा से ज्यादा पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए। प्रश्नों के अभ्यास के लिए अभ्यर्थी को प्रश्न पत्र पुस्तिका की सहायता लेनी चाहिए। छात्रों को इससे, एक तो प्रश्नों की प्रकृति को समझने में मदद मिलती है, साथ ही अवधारणा में भी स्पष्टता आती है।
अगर आपको हमारा ये विडियो पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिख कर हमें बताए। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ। 

देखते रहिए Prabhat Exams ! How to Prepare environment for UPSC

नमस्कार >>>

Video Pointers

पारिस्थितिकी क्षेत्र में होने वाले परिवर्तन की वजह से इसे महत्वपूर्ण माना जाता ह

UPSC के preparation के लिए पर्यावरण की तैयारी कैसे करें?

सरकारी नीतियों में पर्यावरण चिंताएं शामिल

UPSC परीक्षा में पर्यावरण से संबंधित प्रश्नों में वृद्धि हो रही है

General Studies के पेपर में लगभग 25-30% अंको के प्रश्न environment of Business विषय से पूछे जाते हैं

Environment for UPSC विषय की तैयारी कैसे करें ?

how to prepare environment for upsc

पर्यावरण से जुड़े विषयों के लिए NCERT की 9वीं-12वीं तक की किताबें पढ़े

IGNOU के पाठ्य सामग्री भी परीक्षा के दृष्टिकोण से लाभदायक है

जलवायु परिवर्तन एंव जैव विविधता सम्बंधित जानकारी से अपडेटेड रहें

समाचार पत्र से Environmental essay के सभी क्षेत्रों की विस्तृत जानकारी मिलती हैं | 

अभ्यर्थी को पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए | 

धार्मिक रूप से इन युक्तियों का पालन करें और केवल अध्ययन के उपर्युक्त स्रोतों का हवाला देकर आपको UPSC के लिए पर्यावरण तैयार करने में मदद मिलेगी। आवश्यक ज्ञान प्राप्त करने के लिए, प्रासंगिक जानकारी बनाए रखें और अपने डी-डे पर अपेक्षित उत्तर लिखें, आपको इन सुझावों को दैनिक अभ्यास करना चाहिए।

👉Follow us:                                                      Telegram Facebook TwitterYou Tube 


No comments:

Post a Comment

Imp Post

भारत के Top महिला IAS अधिकारी || Top Women IAS Officer of India

 UPSC के रैंक लिस्ट में हर साल महिलाओं ने अपनी प्रतिभा और मेहनत के बल पर उच्च स्थान पायी है और सिविल सेवा में रहते हुए देश के विकास में अपन...