Wednesday, April 13, 2022

The Real Story of Jallianwala Bagh Massacre |103वीं बरसी |Jallianwala Bagh in Amritsar||Prabhat Exam

जलियांवाला बाग हत्याकांड

गुलाम भारत की कई दास्तां हैं, जो इतिहास के पन्नों में दर्ज हैं।आज की पीढ़ी जब उन कहानियों को सुनती है तो कभी रगो में खून दौड़ जाता है तो कभी गर्व से सीना चौड़ा हो जाता है।कभी आंखों में आंसू आ जाते हैं, तो कभी क्रोध से भर जाते हैं।गुलाम भारत के इतिहास में एक ऐसी खूनी दास्तां भी है, जिसमें अंग्रेजों के अत्याचार और भारतीयों के नरसंहार की दर्दनाक घटना है।हर साल वह दिन जब भी आता है, उस नरसंहार के घाव हरे हो जाते हैं।शहादत का यह दिन 13 अप्रैल को होता है।इस दिन जलियांवाला बाग हत्याकांड हुआ था।हर भारतीय के लिए जलियांवाला बाग हत्याकांड बेहद दर्दनाक घटना है, जिसमें खून की नदियां बह गईं।कुआं भारतीयों की लाशों से पट गया और मौत का वह मंजर हर किसी की रूह को चोटिल कर गया।

जलियांवाला बाग हत्याकांड की आज 103वीं बरसी है

  • पंजाब के अमृतसर में जलियांवाला बाग नाम की एक जगह है।जहां 13 अप्रैल 1919 के दिन अंग्रेजों ने निहत्थे भारतीयों पर गोलियां बरसाई थीं।
  • उस कांड में कई परिवार खत्म हो गए।बच्चे, महिला, बूढ़े तक को अंग्रेजो ने नहीं छोड़ा ... उन्हें बंद करके गोलियों से छलनी कर दिया।
  • दरअसल, घटना के दिन जलियांवाला बाग में अंग्रेजों की दमनकारी नीति, रोलेट एक्ट और सत्यपाल और सैफुद्दीन की गिरफ्तारी के खिलाफ एक सभा का आयोजन किया गया था।
  • हालांकि इस दौरान शहर में कर्फ्यू लगा हुआ था।लेकिन कर्फ्यू के बीच हजारों लोग सभा में शामिल होने पहुंचे थे।कुछ लोग ऐसे भी थे जो बैसाखी के मौके पर अपने परिवार के साथ वहीं लगे मेले को देखने गए थे।
  • जब ब्रिटिश हुकूमत ने जलियांवाला बाग पर इतने लोगों की भीड़ देखी, तो वह बौखला गए।उनको लगा कि कहीं भारतीय 1857 (सत्तावन) की क्रांति को दोबारा दोहराने की ताक में तो नहीं।
  • ऐसी नौबत आने से पहले ही वह भारतीयों की आवाज कुचलना चाहते थे और उस दिन अंग्रेजों ने क्रूरता की सारी हदें पार कर दी।
  • सभा में शामिल नेता जब भाषण दे रहे थे, तब ब्रिगेडियर जनरल डायर वहां पहुंच गए। इस दौरान वहां तरीबन 5  हजार लोग पहुंचे थे।
  • वहीं जनरल डायर ने अपने 90 ब्रिटिश सैनिकों के साथ बाग को घेर लिया।उन्होंने वहां मौजूद लोगों को चेतावनी दिए बिना ही गोलियां चलानी शुरू कर दी।
  • जिसके बाद ब्रिटिश सैनिकों ने महज 10 मिनट में कुल 1650 राउंड गोलियां चलाईं।इस दौरान जलियांवाला बाग में मौजूद लोग उस मैदान से बाहर नहीं निकल सकते थे, क्योंकि बाग के चारों तरफ मकान बने थे।
  • बाहर निकलने के लिए बस एक संकरा रास्ता था ।भागने का कोई रास्ता न होने के चलते लोग वहां फंस कर रह गए।
  • अंग्रेजों की गोलियों से बचने के लिए लोग वहां स्थित एकमात्र कुए में कुद गए।कुछ देर में कुआं भी लाशों से भर गया। 
  • जलियांवाला बाग में शहीद होने वालो का सही आंकड़ा आज भी पता न चल सका , लेकिन डिप्टी कमिश्नर कार्यालय में 484  ( चौरासी) शहीदों की सूची है, तो जलियांवाला बाग में 388 (अट्ठासी) शहीदों की लिस्ट है।
  • ब्रिटिश सरकार के दस्तावेजों में 379 (उनासी) लोगों की मौत और 200 लोगों के घायल होने का दावा किया गया,हालांकि अनाधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, ब्रिटिश सरकार और जनरल डायर के इस नरसंहार में 1हजार से ज्यादा लोग शहीद हुए थे और लगभग 2 हजार से अधिक भारतीय घायल हुए थे।
  • इस घटना के बाद जलियांवाला बाग को लेकर साल 1919 में एक कमेटी का गठन किया गया और इस कमेटी का अध्यक्ष विलियम हंटर को बनाया गया था।
  • हंटर कमेटी का गठन जलियांवाला बाग सहित अन्य घटनाओं की जांच के लिए किया गया था। विलियम हंटर के अलावा इस कमेटी में अन्य सात लोग और भी थे जिनमें से कुछ भारतीय थे।
  • हंटर कमेटी के सभी सदस्यो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड के सभी पहलुओं को जांचा और यह पता लगाने की कोशिश की कि जनरल डायर ने जो जलियांवाला बाग हत्याकांड किया था वह सही था या गलत।
  • 19 नवंबर सन 1919 में हंटर कमेटी द्वारा जनरल डायर की सभी अपीलो और दलीलों को ध्यान में रखकर उसके अपराधों की जांच पड़ताल शुरू हुई।
  • जिसके बाद 8 मार्च 1920 को कमेटी ने अपनी रिपोर्ट को सार्वजनिक किया।23 मार्च 1920 को जनरल डायर को दोषी करार देते हुए उसको महेज सेवानिवृत्त किया गया।

दोस्तों अगर आपको हमारा ये VIDEO पंसद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी ज़रूर SHARE करें , और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो COMMENT में लिखकर हमें बताएं।दोस्तों अब आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM, TWITTER OR TELEGRAM पर भी FOLLOW कर सकते है।जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए TOPIC पर , एक नए VIDEO के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa




No comments:

Post a Comment