Thursday, October 8, 2020

भारत के Top महिला IAS अधिकारी || Top Women IAS Officer of India

 UPSC के रैंक लिस्ट में हर साल महिलाओं ने अपनी प्रतिभा और मेहनत के बल पर उच्च स्थान पायी है और सिविल सेवा में रहते हुए देश के विकास में अपना योगदान दिया है. आप सब को पता है कि IAS officer की job profile हमेशा से ही बहुत चुनौतीपूर्ण और कठिन होता है, इसमें नौकरी के प्रति बहुत समर्पण और प्रतिबद्धता चाहिए होती है. ऐसे में भारत की महिलाओं ने अपने मजबूत इच्छाशक्ति और समर्पण के साथ IAS पद की गरिमा को और ऊँचा किया. वे सभी कठिनाइयों का सामना करते हुए और सभी बाधाओं को पार करते हुए, ऐसे मुकाम तक पहुंच गईं जहाँ ये ना केवल महिलाओं को बल्कि पुरुषों को भी प्रेरित किया और आज वे देश में कई लोगों के लिए रोल मॉडल हैं। 

आज हम इस विडियो में ऐसे ही शीर्ष के IAS, IFS, या IPS अधिकारियों के बारे में बात करेंगे, जिन्होंने देश की सेवा की है और IAS परीक्षा के लिए लोगों को प्रेरित किया। 

लेकिन उससे पहले हमें यह भी जानना होगा कि भारत में प्रत्येक 20 पुरुष IAS अधिकारियों के लिए, अनुपात में केवल 1 महिला IAS अधिकारी है। लेकिन अब इसे बदलना होगा अगर हमें वास्तव में समाज और देश में बदलाव चाहिए तो. इसके बावजूद, कई महिला सिविल सेवक और राजनयिक हैं जिन पर हमारे देश को गर्व है। जिनमें सबसे पहले नाम किरण बेदी का है-

इस नाम को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। भारत में पहली महिला IPS अधिकारी वर्तमान में पुडुचेरी की उपराज्यपाल हैं, जिन्होंने सेवा से सेवानिवृत्ति के बाद राजनीति में कदम रखा। वह एक अधिकारी के रूप में जानी जाती थीं, जो बोल्ड और ईमानदार थीं। उन्होंने दिल्ली की कुख्यात तिहाड़ जेल में कई सुधार लाकर इसे विश्व का एक मॉडल जेल बनाने में कामयाबी पायी। उन्हें 1994 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. वह संयुक्त राष्ट्र के महासचिव के पुलिस सलाहकार बनने वाली पहली भारतीय महिला भी थीं।

निरुपमा राव: 1973 बैच की IFS अधिकारी निरुपमा राव ने उस वर्ष की यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में ऑल इंडिया रैंकिंग में टॉप किया था। वह 2009 में भारत की विदेश सचिव बनने वाली दूसरी महिला बनीं। 2001 में, वह पहली और अब तक, विदेश मंत्रालय की एकमात्र महिला प्रवक्ता थीं। अपने ऐतिहासिक कैरियर के दौरान, उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन में राजदूत सहित कई पद संभाले; और श्रीलंका के उच्चायुक्त भी बनी। 

मीरा शंकर: वे संयुक्त राज्य अमेरिका की दूसरी महिला राजदूत थीं, पहली महिला विजयलक्ष्मी पंडित थीं। वह 2009 से 2011 तक राजदूत रहीं. मीरा शंकर, 1973 बैच के IFS अधिकारी थीं जो PMO में निदेशक, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय में निदेशक, SAARC के प्रमुख, जर्मनी में भारत के राजदूत आदि सहित अन्य पदों पर कार्य किया। 

डी रूपा मौदगिल: 2000 बैच की IPS अधिकारी डी रूपा मौदगिल का तबादला दो दशक के करियर में 41 बार हुआ है। वह निडर, ईमानदार और शानदार पुलिस ऑफिसर है जो कर्नाटक की पहली महिला गृह सचिव हैं. उनका कहा हुआ शब्द “If you want to create history, don’t be that good girl” हमेशा ही महिलाओं को आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है। 

C. B. Muthamma: यदि आप UPSC  की तैयारी करते हैं, तो आपको चोंइरा बेलियप्पा मुथम्मा की कहानी पढ़नी चाहिए। भारत में ऐसे समय में जब महिलाएं अपने घरों तक ही सीमित थीं, मुथम्मा महिला सशक्तीकरण का प्रतीक बन गई। 1948 में, वह भारतीय सिविल सेवा (ICS) परीक्षा को पास करने वाली पहली महिला बनीं। वह पहली महिला IFS अधिकारी और भारत की पहली महिला राजदूत थीं (उन्हें हंगरी में राजदूत नियुक्त किया गया था)।

स्मिता सभरवाल:  स्मिता सभरवाल 2001 बैच की एक IAS ऑफिसर हैं और वो लोकप्रिय रूप से 'पीपुल्स ऑफिसर' के रूप में जानी जाती हैं। यह तेलंगाना कैडर की अधिकारी हैं मुख्यमंत्री कार्यालय में नियुक्त होने वाली पहली महिला अधिकारी है। सभरवाल वर्तमान में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के सचिव के रूप में कार्यरत हैं। उसने 23 साल की उम्र में IAS परीक्षा पास कर ली थी और ऑल इंडिया रैंक 4 हासिल की थी। वह करीमनगर और मेदक जैसी जगहों पर कलेक्टर के रूप में अपने अच्छे काम के लिए जानी जाती है। वह करीमनगर में स्वास्थ्य, शिक्षा और सार्वजनिक उपयोगिता विभागों में सुधार के लिए जिम्मेदार थीं। उन्होंने अपने शानदार योगदान के लिए कई पुरस्कार भी जीते हैं।

👉Visit us: LBSNAA IAS Training in Hindi

👉Visit For: UPSC/IAS Video

👉Follow us: You Tube Telegram Facebook Twitter

No comments:

Post a Comment