Saturday, April 23, 2022

Do You want to Prepare for UPSC from home ? UPSC Preparation | Prabhat Exam

क्या आप घर बैठे यूपीएससी की तैयारी करना चाहते हैं?

यूपीएससी की तैयारी और अच्छे कोचिंग संस्थान की तलाश परस्पर एक साथ ही candidates को परेशान करती हैं। दरअसल एक आम धारणा यह बन गयी है कि बिना कोचिंग के यूपीएससी परीक्षा में सफल होना असंभव है। लेकिन जब हम रिजल्ट्स और successful candidates की stories सुनते हैं तो पता चलता है कि बिना कोचिंग के न सिर्फ यूपीएससी की परीक्षा qualify की जा सकती है बल्कि अच्छी रैंक भी लाई जा सकती है। इसीलिए आज हम आपके लिए लाए हैं कुछ टिप्स जिनकी मदद से आप भी यूपीएससी की तैयारी घर से ही कर सकते हैं। 

तो आइए शुरुआत करते हैं आज के video की, जो है – क्या आप घर बैठे यूपीएससी की तैयारी करना चाहते हैं?

एग्जाम के बेसिक्स को जानें - 

  • तैयारी शुरू करने से पहले कुछ बेसिक जानकारी जरूरी है, जैसे सिविल सर्विसेज एग्जाम क्या होता है, इसके लिए क्या योग्यता जरूरी है और सिलेबस कैसा होता है? बेसिक्स क्लियर होने के बाद ही आप सही रणनीति बना सकते हैं। 
  • आईएएस प्रीलिम्स और मेन्स एग्जाम की तैयारी में फर्क होता है। प्रीलिम्स के लिए आपको बहुत सारी जानकारी चाहिए होगी लेकिन गहराई से नहीं। लेकिन मेन्स के लिए आपको किसी भी टॉपिक की बहुत गहराई तक जानकारी होनी चाहिए।
सही किताबों का चुनाव करें - 
  • तैयारी के लिए सही किताबों का चुनाव करना बहुत जरूरी है। आपको उन किताबों का अध्ययन करना चाहिए जो टॉप क्‍लास हों। आपको इन किताबों को दो बार पढ़ना चाहिए। पहली बार में तो एक-एक करके सारे चैप्टर पढ़ जाएं। 
  • दोबारा में सिर्फ अहम चैप्टर्स को पढ़ें। अगर आप प्रीलिम्स या मेन्स से पहले इन किताबों का एक बार फिर अध्ययन कर लें तो काफी अच्छा होगा।

डेली न्यूजपेपर और मैगजीन जरूर पढ़ें - 

  • अगर आपको मालूम नहीं है तो जान लें कि सिविल सर्विसेज के एग्जाम में करंट अफेयर्स और जनरल अवेयरनेस काफी मायने रखता है। पेपर 1 में करंट अफेयर्स और जनरल अवेयरनेस से कम-से-कम 30-40 सवाल आते हैं। इन चीजों को कवर करने के लिए आपको रोजाना अच्छे समाचार पत्र और मैगजीन का अध्ययन करना चाहिए।

डिटेल नोट्स तैयार करें  -

  • आईएएस परीक्षा पास करने के आपके संघर्ष में नोट्स महत्वपूर्ण तत्व हैं। उचित और प्रभावी नोट्स के बिना आगे बढ़ना चुनौतीपूर्ण होगा। सूचना के प्रामाणिक स्रोतों से परामर्श करने के बाद उचित विश्लेषण के साथ नोट्स बनाने का प्रयास करें। ये नोट्स आपकी परीक्षा की तैयारी को आसान बनाएंगे, क्योंकि समय की कमी के कारण पूरी सामग्री को दोबारा पढ़ने का समय शायद आपको न मिले। 

यूपीएससी सिलेबस की चेकलिस्ट बनाएं - 

  • यूपीएससी ने सिविल सेवा परीक्षा के सिलेबस को अपने आधिकारिक पोर्टल पर उपलब्ध करा दिया है। यूपीएससी परीक्षा का सिलेबस आप upsc.gov.in से डाउनलोड कर सकते हैं। सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2022 सिलेबस को आप अपनी चेकलिस्ट के अनुसार कवर करते रहें। एक बार जब आप किसी विषय को कवर करते हैं, तो इसे शीट में चिह्नित करें।

ओल्ड प्रश्नपत्र सॉल्व करें - 

  • परीक्षा की समझ हासिल करने के लिए, आपको पिछले सभी प्रश्नपत्रों की समीक्षा करने की आवश्यकता है। इससे आपको मुख्य खंड और दोहराए जाने वाले प्रश्नों का अंदाजा हो जाएगा। प्रत्येक प्रश्न के आगे मूल्यांकन की सिफारिश की जाती है क्योंकि ऐसा करने से आपकी अध्ययन की आदतों को उन अवधारणाओं और विषयों की ओर निर्देशित किया जाएगा जिन पर यूपीएससी ने प्रश्न तैयार किए हैं। इसके अलावा, पिछले प्रश्नपत्रों को पढ़ने से आपको अपनी तैयारी का भी अंदाजा हो जाएगा।

रिवीजन जरूर करें - 

  • किसी विषय के हर मिनट के विवरण को याद रखना एक असंभव कार्य है। रिवीजन के बिना, आपके सभी प्रयास व्यर्थ हो जाएंगे। इसलिए, रिवीजन के लिए कुछ समय निकालना आवश्यक है। सभी विषयों को लंबे समय तक याद रखने के लिए सप्ताहांत में उनका रिवीजन करें। 
  • नकारात्मक सोच को अपने ऊपर हावी न होने दें। कभी-कभी ऐसा होता है कि हमारी तैयारी तो पूरी हो जाती है पर नकारात्मक सोच के कारण परीक्षा भवन में हम जल्दबाजी कर जाते हैं और फिर पछताते हैं, इसलिए अपनी सोच को पूरी तैयारी के दौरान तथा परीक्षा के समय भी सकारात्मक बनाए रखें। 

अगर आपको हमारा यह  Blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।


देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa


IAS SUCCESS STORY Yash Jaluka || Cracked UPSC CSE Without Coaching || Prabhat Exam

सेल्फ स्टडी कर पहले प्रयास में  UPSC exam क्रैक कर IAS  बने Yash Jaluka , क्या है उनकी सक्सेस स्टोरी ? 

यूपीएससी (UPSC) के बारे में तैयारी शुरू करने से पहले कैंडिडेट्स के सामने कई बड़े सवाल होते हैं. इनमें से सबसे बड़ा सवाल होता है कि क्या सिविल सेवा में सफलता पाने के लिए कोचिंग करना जरूरी होता है?  आज आपको यूपीएससी परीक्षा 2020 में ऑल इंडिया रैंक 4 प्राप्त करने वाले यश जालुका (Yash Jaluka) की कहानी बताएंगे. 

  • उन्होंने पहले ही प्रयास में आईएएस बनने का सपना पूरा कर लिया।खास बात यह रही कि उन्होंने सेल्फ स्टडी की बदौलत यह मुकाम हासिल किया।
  • आज आपको बताएंगे कि यश ने अपना सपना पूरा करने के लिए किस तरह की रणनीति अपनाई।उनकी कहानी से तमाम लोग प्रेरणा ले सकते हैं

पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद शुरू की तैयारी

  • यश जालुका मूल रूप से झारखंड में धनबाद जिले के झरिया के रहने वाले हैंउन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई अपने राज्य में की और उसके बाद ग्रेजुएशन के लिए दिल्ली चले गए
  • दिल्ली में उन्होंने बीकॉम और उसके बाद कॉमर्स में पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। इसी दौरान उन्होंने सिविल सेवा में जाने का फैसला किया और तैयारी में जुट गए।
  • उन्होंने किसी भी तरह की कोचिंग नहीं ली और सेल्फ स्टडी की बदौलत सफलता हासिल करने की ठान ली।
  • कड़ी मेहनत और समर्पित होकर उन्होंने तैयारी की और पहले प्रयास में यूपीएससी परीक्षा क्रैक कर दी
  • दोस्तों , यश के मुताबिक सबसे पहले आपको यूपीएससी में अपना ऑप्शनल सब्जेक्ट बेहद सोच समझकर चुनना चाहिए
  • यश ने कॉमर्स ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की थी, ऐसे में उन्होंने इस सब्जेक्ट को अपना ऑप्शनल बनाया।
  • इसके बाद बेहतर शेड्यूल बनाकर तैयारी में जुट गए। उन्होंने इंटरनेट का भी सहारा लिया. उन्होंने पूरे डेडिकेशन के साथ पढ़ाई की और पहले प्रयास में सफलता मिल गई।
  • वह हर किसी को स्मार्ट स्टडी करने की सलाह देते हैं ताकि काफी समय बचाया जा सके
  • जो लोग यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं या करने का प्लान बना रहे हैं, उन लोगों को यश सबसे पहले सिलेबस को अच्छी तरह देखने की सलाह देते हैं।
  •  यश के मुताबिक सिलेबस के अनुसार आपको अपना स्टडी मैटेरियल तैयार करना चाहिए और फिर स्ट्रेटजी बनानी चाहिए।
  • सेल्फ स्टडी पर फोकस करना चाहिए. पढ़ाई के साथ शॉर्ट नोट्स भी बना लें और रिवीजन करते रहें।
  • आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस करें और अपनी तैयारी का समय समय पर एनालिसिस भी करते रहें।जहां भी कमी नजर आए उसे सुधारें और तैयारी को मजबूत करें

अगर आपको हमारा यह  Blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa

What is World Earth Day? World Earth Day Theme - 2022 | 'वर्ल्ड अर्थ डे'मनाने की वजह || Prabhat Exam

EARTH DAY 2022(पृथ्वी दिवस 2022) 'वर्ल्ड अर्थ डे'

दोस्तों आज है 22 APRIL यानी आज के दिन मनाया जाता है पृथ्वी दिवस यानी की (EARTH DAY).विश्व पृथ्वी दिवस को मनाने का मकसद यही है कि लोग पृथ्वी के महत्‍व को समझें और पर्यावरण को बेहतर बनाए रखने के प्रति जागरूक हों यही वजह है कि इस दिन पर्यावरणसंरक्षण और पृथ्वी को बचाने का संकल्प लिया जाता है

  • विश्व पृथ्वी दिवस के दिन पेड़ लगाकर, सड़क के किनारे कचरा उठाकर, लोगों को टिकाऊ जीवन जीने के तरीके अपनाने के लिए प्रेरित करने जैसे विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके सेलिब्रेट किया जाता है।
  • इसके अलावा बच्चों में जागरूकता फैलाने के लिए इस दिन स्कूलों और विभिन्न समाजिक संस्थाओं द्वारा कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं
  • हमारे देश में धरती को हमारी मां माना जाता है. आज के समय में धरती कई तरह की परेशानियों का सामना कर रही है।
  • डेवलपमेंट के लिए इंसानों ने पर्यावरण को बहुत नुकसान पहुंचाया है इसे कारण धरती अपना क्रोधित रूप इंसानों को आये दिन बुकंप , बाड़ , और भुसंख्लन के रूप में दिखा देती है , इसी के साथ मनुष्य हर दिन ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण आदि परेशानियों का सामना कर रहे हैं
  • ऐसे में पर्यावरण एक्सपर्ट्स का मानना है कि अगर जल्द ही धरती को संरक्षित करने के लिए जरूरी कदम नहीं उठाए गए तो खामियाजा इंसान को ही भुगतना होगा

'वर्ल्ड अर्थ डे'मनाने की वजह

  • 'वर्ल्ड अर्थ डे' यानी विश्व पृथ्वी दिवस को मनाने के पीछे यह कारण है कि लोग पर्यावरण के महत्व को समझें और धरती को बचाने के लिए जरूरी कदम उठाए
  • इस दिन को इंटरनेशनल मदर अर्थ डे के रूप में भी जाना जाता है. इस दिन लोग धरती को बचाने के लिए संकल्प लेते हैं।
  • स्कूलों में अलग-अलग तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।साथ ही बच्चों और लोगों के बीच पेड़ लगाने के महत्व, पर्यावरण को स्वच्छ और साफ रखने के लिए जागरूकता फैलाई जाती है।
  • कई सामाजिक कार्यकर्ता पृथ्वी को बचाने के लिए जुलूस और नुक्कड़ नाटक का भी आयोजन करते हैं

'वर्ल्ड अर्थ डे' मनाने का इतिहास

  • वर्ल्ड अर्थ डे दुनिया के 192 देशों में सेलिब्रेट किया जाता है पहली बार 'वर्ल्ड अर्थ डे' को साल 1970 में मनाना शुरू किया गया।
  • साल 1960 के दशक में दुनियाभर में विकास के कार्य के नाम पर अंधाधुन जंगल की कटाई की जा रही थी।इससे पर्यावरण को भारी नुकसान हो रहा था।
  • इस कटाई को रोकने और लोगों को पर्यावरण के लिए जागरूक बनाने के लिए अमेरिकी सेनिटर ने साल 1969 में सितंबर महीने में वॉशिंगटन में एक सम्मेलन की घोषणा की।
  • इस सम्मेलन में कई स्कूल कॉलेज के बच्चे भी शामिल हुए. इसके बाद से ही साल 1970 से इस खास दिन को पूरी दुनिया 'वर्ल्ड अर्थ डे' के रूप में मनाने लगी है

साल 2022 की थीम

  • साल 2022 के 'वर्ल्ड अर्थ डे' के मौके पर एक खास थीम रखा गया है. यह थीम है- 'Invest in Our Earth'।
  • इस थीम का मतलब है कि हमारे पृथ्वी के लिए निवेश करें. इस थीम के जरिए पृथ्वी को बचाने के लिए नए तरीके खोजे और उसे लागू करें।साल 2021 की थीम है 'Restore Our Earth' था

अगर आपको हमारा यह  Blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa


Friday, April 22, 2022

SUCCESS STORY IAS RIA DABI Cleard UPSC in First Attempt | Ria Dabi's Detailed Strategy |Prabhat Exam

SUCCESS STORY OF  IAS RIA DABI

हम सभी जानते हैं कि यूपीएससी की परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षा में से एक हैंइस परीक्षा को पास करने के लिए अभ्यर्थी कई-कई सालों से कड़ी मेहनत और लगन से तैयारी करते हैं बावजूद इसके कई सारे अभ्यर्थियों को निराश होकर असफलता ही हाथ लगती हैपरंतु कई अभ्यर्थी ऐसे भी होते हैं जो पहले ही प्रयास में यूपीएससी को क्लियर कर लेते हैंहमने यूपीएससी के परीक्षाओं के दरमियान ऐसा भी देखा है कि 1 जिले से 2 अभ्यर्थियों का चयन हो पाना भी काफी मुश्किल होता हैलेकिन आज की इस वीडियों में हम आपको ऐसी दो सगी बहनों के बारे में बताने जा रहे हैं जो एक ही परिवार में जन्मी और दोनों ने यूपीएससी में टॉप किया 

जी हां दोस्तों हम बात कर रहे हैं टीना डाबी और रीया डाबी की इन दोनों बहनों ने UPSC  की परीक्षा पास कर अपने  परिवार का नाम रोशन किया है

                           

  • रिया मूल रूप से मध्यप्रदेश के भोपाल की ही रहने वाली हैंपिछले काफी समय से वे माता-पिता के साथ दिल्ली में रह रही हैं
  • रिया की बड़ी बहन टीना डाबी को राजस्थान कैडर मिला थाटीना डाबी राजस्थान की चर्चित आईएएस अधिकारी हैं. टीना डाबी सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहती हैं
  • टीना डाबी की सोशल मीडिया में शेयर की गई कई पोस्ट काफी पॉपुलर रही हैं. रिया भी सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहती हैं
  • रिया को पढ़ाई के साथ पेंटिंग बनाने का भी काफी शौक हैरिया ने परिणाम के बाद अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर माता-पिता के साथ फोटो शेयर करते हुये लिखा भी है कि अपने माता-पिता को खुश रखने से बेहतर कुछ नहीं है
  • IAS आईएएस टीना डाबी की छोटी बहन रिया डाबी भी अपनी बड़ी बहन के नक्शेकदम पर चल रही है
  • टीना डाबी ने जहां यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा-2016 में जहां टॉप किया था वहीं उनकी छोटी बहन रिया डाबी ने यूपीएससी 2020 के परीक्षा परिणाम में 15वीं रैंक हासिल की है
  • महज 23 साल की उम्र में अपने पहले ही प्रयास में यूपीएसी में जबर्दस्त रैंक हासिल करने वाली रिया अपनी बड़ी बहन टीना डाबी से काफी प्रभावित हैं
  • रिया डाबी अपनी सफलता का श्रेय परिजनों को देती हैंसाथ ही अपनी सफलता पर रिया ने कहा कि उनके माता और पिता समेत बड़ी बहन टीना डाबी ने हमेशा उनको गाइड किया
  • रिया का कहना है कि उनकी मम्मी का सपना था कि दोनों बहनें सिविल सर्विसेज में जाए उनका यह सपना पूरा हो गया है 
  • यूपीएससी परीक्षा में सफलता पाने वाली रिया का कहना है कि यह एग्जाम काफी टफ होता है  इसकी तैयारी के दौरान आपको सभी चीजों का ध्यान रखना पड़ता है
  • काफी चीजों को सैक्रिफाइस करना पड़ता हैआपको सोशल मीडिया से हटना पड़ता हैआपकी सोशल लाइफ काफी कम हो जाती है 
  • यूपीएससी के एग्जाम में करंट अफेयर्स का काफी महत्व है न्यूज पेपर आपको अपडेट रखने में सहायक हो सकते हैं
  • परीक्षा की तैयारी के लिए रिविजन का काफी अहम रोल है मेरी बहन रिया और मां ने हमेशा घर में अनुशासन को मैंटेन किया और मुझे प्रोत्साहित किया 
  • परीक्षा की तैयाररी के लिए रिया नियमिम रूप से 8 से 10 घंटे पढ़ाई करती थीबता करें रिया की पढ़ाई की तो , रिया ने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज से पॉलिटिकल साइंस में ग्रेजुएशन  हैं
  • रिया ने बताया कि जब उनकी बड़ी बहन टीना डाबी आईएएस में सलेक्ट हुई थी तब वे स्कूल में थी उन्होंने उसी समय यह ठान लिया था की वह भी आगे चल कर IAS बनेंगी
  • बस तभी से उन्होंने इसके लिए तैयारी करना शुरू कर दियारिया के अनुसार अगर आप कॉन्सेप्ट को पूरी तरह से समझकर सब्जेक्ट की गहराई तक जाएंगे तो वो आपको बोझ नहीं लगेगा बल्कि आप उसे एन्जॉय करेंगे और तैयारी काफी आसान हो जाएगी

अगर आपको हमारा यह  Blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa



UPSC IN NEWS : Cases Pending in Supreme Court | क्या है समय की मांग ? Prabhat Exam

सुप्रीम कोर्ट में लंबित मामले


नमस्कार स्वागत है आपका हमारे Prabhat Exam Ke Blog पर। ये एक ऐसा PLATFORM है , जहां आपको मिलती है सभी COMPETITIVE EXAM से जुडी महत्वपूर्ण जानकरिया, जो आपकी किसी भी EXAM में सफल होने में काफी मदद करता है। अगर आप हमारे Blog नए है तो  तो हमें LIKE और SUBSCRIBE ज़रूर करे। दोस्तों आज के इस BLOG में हम बात करेंगे सुप्रीम कोर्ट में लंबित मामले

सुप्रीम कोर्ट में लंबित मामले ?

  • वर्ष 2022 में सुप्रीम कोर्ट के कई वर्तमान न्यायाधीश सेवानिवृत्त हो रहे हैं, परिणामस्वरूप इस वर्ष शीर्ष अदालत में कई पद रिक्त हो जाएंगे।

क्या है सुप्रीम कोर्ट से जुड़ी संबंधित चिंताएं:

  • सुप्रीम कोर्ट में यह सेवानिवृतियाँ ऐसे समय में हो रही है, जब अदालत विशेष रूप से महामारी की क्रूर- लहरों के बाद खुद को स्थिर करने की प्रक्रिया में है, और अदालत में बड़ी संख्या में मामले लंबित हैं।
  • भारत की कानूनी प्रणाली में, विश्व में ‘लंबित मामलों का सबसे बड़ा बैकलॉग’ अर्थात पिछले मामलों का ढेर है – लगभग 30 मिलियन मामले लंबित है। और,
  • यह संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, जोकि स्वयं की कानूनी व्यवस्था की खामियों को दर्शाता है।और इस बैकलॉग के कारण, भारत की जेलों में अधिकांश कैदी, मुकदमे की प्रतीक्षा कर रहे विचाराधीन बंदी हैं।

सुप्रीम कोर्ट में लंबित मामले:

  • सुप्रीम कोर्ट के आंकड़ों के अनुसार, 1 अप्रैल, 2022 तक शीर्ष अदलत में 70,362 मामले लंबित हैं।
  • इनमे से 19% से अधिक मामले ‘न्यायिक सुनवाई’ के लिए अदालत की पीठ के समक्ष पेश होने के लिए तैयार नहीं हैं क्योंकि इनकी आवश्यक प्रारंभिक प्रक्रिया पूरी नहीं की गयी है।
  • 52,110 मामले अभी प्रवेश के स्तर पर ही हैं, वहीं 18,522 मामले नियमित सुनवाई से संबंधित हैं।
  • संविधान पीठ के समक्ष मामलों (मुख्य और सम्बद्ध मामलों) की संख्या कुल 422 है।
  • सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में दो साल के ‘वर्चुअल सिस्टम’ के बाद, ‘पूर्ण वास्तविक सुनवाई’ फिर से शुरू की है।

लंबित मामलों को कम करने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदम:

  • सरकार को एक कुशल और जिम्मेदार ‘वादी’ में बदलने के लिए “राष्ट्रीय मुक़दमा नीति 2010” (National Litigation Policy 2010) को लागू किया गया है।
  • ‘राष्ट्रीय मुक़दमा नीति’ 2010 के अनुरूप सभी राज्यों द्वारा ‘राज्य मुक़दमा नीतियां’ (State Litigation Policies) तैयार की गयी हैं।
  • जिन मामलों में सरकार एक पक्ष के रूप में है, उन पर नज़र रखने के उद्देश्य से 2015 में ‘कानूनी सूचना प्रबंधन और ब्रीफिंग सिस्टम’ (Legal Information Management and Briefing System – LIMBS) तैयार किया गया था।
  • सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को सलाह दी है, कि 6 महीने या एक साल के कारावास की सजा पाने वाले अपराधियों को, पहले से ही भरी हुई जेलों पर और भार डालने के लिए भेजने के बजाय उन्हें सामाजिक सेवा कर्तव्यों का आवंटन किया जाना चाहिए। 

क्या है समय की मांग:

1. राष्ट्रीय मुक़दमा नीति को संशोधित किया जाए।

2. मध्यस्थता को प्रोत्साहित करने के लिए ‘वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र’ को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

3. सरकार और न्यायपालिका के मध्य समन्वित कार्रवाई की जानी चाहिए।

4. उच्च न्यायालयों पर बोझ कम करने के लिए निचली अदालतों में न्यायिक क्षमता को मजबूत किया जाना चाहिए।

5. न्यायपालिका पर व्यय बढ़ाना चाहिए।

6. कोर्ट केस मैनेजमेंट और कोर्ट ऑटोमेशन सिस्टम में सुधार किया जाना चाहिए।

7. विषय-विशिष्ट ‘पीठों’ का गठन।

8. मजबूत आंतरिक विवाद समाधान तंत्र।

9. न्यायाधीशों को छोटे और अधिक सुस्पष्ट निर्णय लिखने चाहिए।

अगर आपको हमारा यह  Blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa





Thursday, April 21, 2022

UPSC TOPPER Dr Neha Jain IAS | IAS SUCCESS STORY | Dr Neha Jain Strategy FOR UPSC | Prabhat Exam

"नेहा जैन के सफलता की कहानी"

नमस्कार स्वागत है आपका हमारे Prabhat Exam Ke Blog पर। ये एक ऐसा PLATFORM है , जहां आपको मिलती है सभी COMPETITIVE EXAM से जुडी महत्वपूर्ण जानकरिया, जो आपकी किसी भी EXAM में सफल होने में काफी मदद करता है। अगर आप हमारे Blog नए है तो  तो हमें LIKE और SUBSCRIBE ज़रूर करे। दोस्तों आज के इस BLOG में हम बात करेंगे नेहा जैन के बारे में :-

"नेहा जैन के सफलता की कहानी"

  • पहले डेंटिस्ट और बाद में आईएएस परीक्षा, नेहा ने जिस भी क्षेत्र में कदम रखा वहां अपना परचम फहराया. हालांकि नेहा या कहें डॉ. नेहा के लिए यह सफर आसान नहीं था
  • उन्होंने अपनी इस जर्नी में बहुत से उतार-चढ़ाव देखे पर कभी हार नहीं मानी. खासकर यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी के समय उन पर दोहरी जिम्मेदारी थी क्योंकि वे साथ ही में सरकारी अस्पताल में डेंटिस्ट्री की प्रैक्टिस भी कर रही थी और उनका बहुत सा समय नौकरी पर ही निकल जाता था
  • लेकिन नेहा कभी इस बात से नहीं घबरायी कि उनके पास और कैंडिडेट्स की तुलना में टाइम कम होता है या नहीं होता. जितना भी समय उन्हें मिलता था वे उसका भरपूर प्रयोग करती थीं और उपलब्ध समय में पूरा फोकस स्टडीज पर करती रहीं. आज जानते हैं उनके इस सफर के बारे में
सिविल सेवा से था एक अलग सा आकर्षण –
  • हालांकि नेहा ने डेंटिस्ट्री की फील्ड ज्वॉइन कर ली थी पर सिविल सेवा का आकर्षण उनके मन में हमेशा से था. DOSTO वे कहती हैं इस सेवा में छोटी सी उम्र में लीडरशिप मिलना और इस सर्विस की डाइवर्सिटी और प्रेस्टीज कुछ ऐसे पार्ट हैं जो मुझे हमेशा इस ओर खींचते थे
  • डेंटिस्ट की पढ़ाई पूरी होने के बाद नौकरी के दौरान नेहा ने सोचा कि उन्हें सिविल सेवा में भाग्य आजमाना चाहिए
  • नेहा के कई सारे फ्रेंड्स पहले से ही सिविल सर्विस की तैयारी कर रहे थे इसलिए नेहा को शुरुआती दौर में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई
  • किताबें चुनना हो या सही कोचिंग या कौन सी वेबसाइट, उन्होंने आसानी से सब सेलेक्ट कर लिया
  • नेहा को इस बात का अंदाजा हमेशा से था कि इस परीक्षा में कुछ भी सर्टेन नहीं होता शायद इसिलिए उन्होंने अपना पहला कैरियर यानी डेंटिस्ट का काम और नौकरी कभी नहीं छोड़ी
  • नेहा का पहली बार में सेलेक्शन नहीं हुआ पर दोबारा में उन्होंने और मेहनत की और न केवल सेलेक्ट हुईं बल्कि टॉपर भी बनीं
ऐस्से, जनरल स्टडीज और ऑप्शनल पर किया फोकस –
  • नेहा बताती हैं कि वे परीक्षा की तैयारी की शुरुआत में ही एक बात समझ चुकी थी कि इस परीक्षा में सफल होने के लिए उन्हें ऐस्से, जनरल स्टडीज और ऑप्शनल पर अतिरिक्त ध्यान देना होगा
  • इनके लिए उन्होंने शुरू से ही कमर कसी हुई थी. इसके साथ ही उन्होंने ऑनलाइन सोर्सेस का भी खूब इस्तेमाल किया साथ ही अपने ऑप्शनल लॉ के लिए कुछ समय कोचिंग भी की
  • नेहा के पिताजी और मामा जी लॉ के क्षेत्र से ही थे इसलिए उन्हें उन दोनों की ही खूब मदद मिली. यहां नेहा एक बात पर ध्यान देने के लिए कहती हैं कि चुनाव से पहले खूब सोच लें कि कौन सी वेबसाइट या किसका स्टडी मैटीरियल चुनना है पर एक बार सेलेक्शन करने के बाद अपनी उस साइट या कोचिंग पर अंत तक पूरा विश्वास रखें
  •  न तो किसी के बहकावे में आएं न ही मन में यह ख्याल लायें कि आपके पास कम अच्छा मैटीरियल है औरों के पास इससे अच्छा है
  • नेहा ने शुरू से अंत तक एक जानी-मानी वेबसाइट को चुना और उसी से करेंट अफेयर्स जोकि रोज के रोज आते थे

कम किताबें, ज्यादा रिवीजन –
  • DOSTO दूसरी जरूरी सलाह नेहा देती हैं कि किताबें एक या दो ही रखें पर उन्हें कम से कम चार या पांच बार पढ़ें. उस किताब के अंदर क्या है आपको सब पता होना चाहिए
  • जब तैयारी पूरी हो जाए तो ऑनलाइन मॉक टेस्ट दें ताकि अपनी गलतियों के साथ ही यह भी जान पाएं कि कांपटीशन में आप कहां स्टैंड कर रहे हैं क्योंकि वहां बहुत से स्टूडेंट्स टेस्ट देते हैं, जिनके बीच आपको आंका जाता है
  • नेहा कहती हैं जिस फोरम के अंतर्गत वे उत्तर लिखती थी उन्होंने पहले नेहा के आंसर्स को सबसे खराब की श्रेणी में रखा फिर नेहा ने उसमें सुधार किया और एक महीने के अभ्यास के बाद उनके उत्तर श्रेष्ठ उत्तरों की श्रेणी में आ गए.नेहा आंसर राइटिंग को भी बहुत महत्व देती हैं
  • वे कहती हैं मेन्स के पहले खूब आंसर राइटिंग प्रैक्टिस करें. मॉक टेस्ट दोनों ही परीक्षाओं के पहले जरूर दें
नेहा की सलाह –
  • नेहा कहती हैं अक्सर कैंडिडेट्स उनसे पूछते हैं कि वे नौकरी के साथ समय कैसे मैनेज करती थी. इसके जवाब में नेहा कहती हैं कि मुझे लगता है हर किसी की जरूरत अलग होती है पर चार से पांच घंटे भी अगर फोकस्ड होकर पढ़ा जाए तो काफी होता है
  • वे नौकरी से जो समय बचता था उसी में पढ़ती थी लेकिन वीकेंड्स पर आठ से दस घंटे का समय पढ़ाई पर ही खर्च करती थी
  • साथ ही सुबह काम पर जाने के पहले जब उनका माइंड फ्रेश होता है उस समय में कठिन हिस्सों को तैयार करती थी और कम्यूट करने के समय को न्यूज पेपर या ऑनलाइन स्टडी मैटीरियल पढ़ने में निकालती थी
  • इससे वे समय का भरपूर प्रयोग कर पाती थी. नेहा कहती हैं कि अगर ठान लो तो मुश्किल कुछ भी नहीं. अपने पूरे सफर में पॉजिटिव रहें और सबसे जरूरी बात खुद पर विश्वास रखें भले हर कोई कहे कि आपसे नहीं होगा

अगर आपको हमारा यह video और blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa


UPSC IN NEWS : 5G Vertical Engagement and Partnership Program | क्या हैं 5G VEPP का उद्देश्य ?

5G वर्टिकल एंगेजमेंट एंड पार्टनरशिप प्रोग्राम
(5G Vertical Engagement and Partnership Program)

नमस्कार स्वागत है आपका हमारे Prabhat Exam Ke Blog पर। ये एक ऐसा PLATFORM है , जहां आपको मिलती है सभी COMPETITIVE EXAM से जुडी महत्वपूर्ण जानकरिया, जो आपकी किसी भी EXAM में सफल होने में काफी मदद करता है। अगर आप हमारे Blog नए है तो  तो हमें LIKE और SUBSCRIBE ज़रूर करे। दोस्तों आज के इस BLOG में हम बात करेंगे 5G वर्टिकल एंगेजमेंट एंड पार्टनरशिप प्रोग्राम

क्या हैं 5G VEPP ?

  • दूरसंचार विभाग ने “5जी वर्टिकल एंगेजमेंट एंड पार्टनरशिप प्रोग्राम यानि VEPP पहल के लिए ‘अभिरुचि की अभिव्यक्ति’ आमंत्रित किए है 
  • 5जी वर्टिकल एंगेजमेंट एंड पार्टनरशिप प्रोग्राम पहल के तहत, 5जी उपयोग के मामले के विकास कार्यक्रम को बढ़ावा देने के लिए, दूरसंचार विभाग अन्य मंत्रालयों और राज्य सरकार के विभागों, स्टार्टअप हब के साथ साझेदारी में आवश्यक अनुमोदन की सुविधा प्रदान करेगा ताकि उपयोगकर्ता उद्योग परिसर को सक्षम बनाया जा सके 
  • इसके तहत, दूरसंचार विभाग द्वारा आवश्यक प्रायोगिक स्पेक्ट्रम भी प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध कराया जाएगा
क्या हैं 5G VEPP का उद्देश्य ?

  • इस पहल का उद्देश्य 5जी यूज-केस इकोसिस्टम हितधारकों के बीच मजबूत सहयोग साझेदारी के तेजी से निर्माण करना तथा विशेषकर उपयोगकर्ता / वर्टिकल उद्योग की आवश्यकताओं को विशेष जोर देते हुए पूरा करना है 
5G VEPP का महत्व 

  • “5जी वर्टिकल एंगेजमेंट एंड पार्टनरशिप प्रोग्राम” को ‘उद्योग वर्टिकल’ के लिए प्रस्तुत किया जा रहा है, जिसमें उपयोगकर्ता वर्टिकल और 5जी टेक हितधारकों के बीच घनिष्ठ सहयोग को सक्षम करने के लिए ‘रुचि की अभिव्यक्ति’ के माध्यम से अभिनव 5जी उपयोग के मामलों के परीक्षण सह उत्पादन आधार के रूप में क्षमता है। 
  • ये संबंधित आर्थिक कार्यक्षेत्रों में 5जी डिजिटल समाधानों को आज़माने और परिष्कृत करने के लिए एक गुणक प्रभाव को ट्रिगर कर सकते हैं
भारत में 5G तकनीक के परीक्षण और शुरुआत संबंधी मामले :

  • सरकार के अनुसार, 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी वर्ष 2022 में ही की जाएगी। कुछ विशेषज्ञों का कहना है, कि इसमें कम से कम तीन महीने की और देरी हो सकती है।
  • क्योंकि दूरसंचार सेवा प्रदाताओं ने अभी तक इस तकनीक और संबंधित विभिन्न पहलुओं का परीक्षण पूरा नहीं किया है 
  • भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण द्वारा किया जा रहा ‘हितधारक परामर्श’ अंतिम चरण में है, और यह वर्ष 2022 की शुरुआत में दूरसंचार विभाग को अपनी सिफारिशें प्रस्तुत कर सकता है
  • इस बीच, निजी दूरसंचार कंपनियों ने 5G के रोलआउट के संबंध में विभिन्न स्तरों – जैसेकि परीक्षण करना, परीक्षण गति और स्वदेशी 5G नेटवर्क बनाना- पर काफी प्रगति की है
अखिर क्या हैं 5G?
  • 5G तकनीक, मोबाइल ब्रॉडबैंड(broadband) की अगली पीढ़ी हैयह तकनीक अंततः 4G LTE कनेक्शन को प्रतिस्थापित करेगी या इसमें महत्वपूर्ण वृद्धि करेगी
क्या है 5G तकनीक की विशेषताएं और लाभ ?

  • यह तकनीक, ‘मिलीमीटर वेव स्पेक्ट्रम’  पर कार्य करती है, जिसके द्वारा काफी बड़ी मात्रा में डेटा को बहुत तेज गति से भेजा जा सकता है
  • 5G तकनीक, तीन बैंड्स अर्थात् निम्न, मध्य और उच्च आवृत्ति स्पेक्ट्रम में काम करती है
  • मल्टी-जीबीपीएस (Multi-Gbps) ट्रान्सफर रेट तथा अत्याधिक कम विलंबता , 5G तकनीक, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), और कृत्रिम बुद्धिमत्ता की ताकत का उपयोग करने वाली एप्लीकेशंस का समर्थन करेगी
  • 5G नेटवर्क की बढ़ी हुई क्षमता, लोड स्पाइक्स के प्रभाव को कम कर सकती है, जैसे कि खेल आयोजनों और समाचार कार्यक्रमों के दौरान होती है
 क्या है 5G प्रौद्योगिकी का महत्व:
  • भारत की राष्ट्रीय डिजिटल संचार नीति 2018 में 5G के महत्व पर प्रकाश डाला गया है, जिसमें कहा गया है कि एक वृद्धिशील स्टार्ट-अप समुदाय सहित 5G, क्लाउड, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) और डेटा एनालिटिक्स, अवसरों के एक नए क्षितिज को खोलने तथा डिजिटल जुड़ाव को तीव्र एवं गहन करने का वादा करता है 
अगर आपको हमारा यह video और blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa



Wednesday, April 20, 2022

UPSC Success Story IAS Anshuman Raj ने जानें कैसे की Self Learning से UPSC की तैयारी | UPSC Strategy

SUCCESS STORY:- IAS अंशुमन राज

UPSC की परीक्षा आत्मविश्वास, धैर्य और कड़ी मेहनत से ही क्लियर किया जाता है। इसलिए खुद पर और अपनी तैयारी पर विश्वास रखें और निरंतर प्रयास करते रहे।सफलता मिलने में भले ही देर हो लेकिन मेहनत कभी ज़ाया नहीं जाती है।यह कहना है वर्ष 2019 में ऑल इंडिया रैंक 107 हासिल करने वाले अंशुमन राज का ।जिन्होंने कम सुविधाओं में रह कर IAS बनने का अपना सपना पूरा किया। दोस्तों आज की इस VIDEO में हम आपके लिए बिहार के बक्सर के रहने वाले अंशुमन राज की SUCCESS STORY लेकर आए है।

अंशुमन राज की SUCCESS STORY  

     

  • सीमित सुख सुविधाओं में रह कर भी व्यक्ति बड़े मुकाम हासिल कर सकता है इसका जीवित उदाहरण हैं बिहार के IAS अंशुमान राज।
  • अंशुमन का जन्म और शुरुआती पढ़ाई-लिखाई बक्सर में उनके गाँव में ही हुई । उन्होंने जवोहर नवोदय स्कूल से दसवीं तक की पढ़ाई पूरी की और बारहवीं के लिए जेएनवी रांची चले गए ।
  • एक साधारण परिवार और बैकग्राउंड से आने वाले अंशुमन के पास कभी बहुत सुविधाएं नहीं रहीं पर अपनी कड़ी मेहनत और माता-पिता के आशीर्वाद से उन्होंने हर चुनौती का सामना किया।
  • अंशुमन राज ने गांव में रहकर सेल्फ स्टडी से ही यूपीएससी क्रैक करने का फैसला किया।पहले प्रयास में उन्हें सफलता मिली और उन्हें IRS सेवा के लिए चुना गया।
  • उन्होंने ज्वाइन तो कर ली लेकिन मन में IAS बनने का सपना तब भी रहा।इसलिए उन्होंने अगले वर्ष एक बार फिर परीक्षा देने का फैसला किया।
  • हालांकि उन्हें एक के बाद एक दोनों प्रयास में असफलता हाथ लगी । लेकिन वह निराश नहीं हुए। 
  • हर बार की असफलता से सीख लेते हुए अपनी कमजोरियों को दूर करते गए और आखिर में चौथे प्रयास में मंजिल मिल ही गई।
  • यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा 2019 में उन्होंने ऑल इंडिया रैंक 107 हासिल की।

  • अपने अनुभव से अंशुमन बताते हैं कि अक्सर ये माना जाता है कि UPSC की तैयारी के लिए बड़े शहर में जा कर कोचिंग लेने से ही परीक्षा क्लियर हो सकती है।लेकिन ऐसा कुछ नहीं है ।
  • यदि आपके पास इंटरनेट सेवा है तो आप देश के किसी भी कोने में बैठ कर परीक्षा की तैयारी कर सकते है । वह बताते हैं कि उन्होंने अपने आखिरी तीन प्रयासों में तैयारी अपने गाँव में रह कर ही की थी।
  • इसी के साथ उन्होंने किसी भी कोचिंग क्लास को ज्वाइन नहीं किया था।साथ ही अंशुमन कहते हैं कि इस परीक्षा की तैयारी के दौरान पेशेंस रखना बहुत जरूरी है क्योंकि कई बार सफलता मिलने में बहुत समय लग जाता है ।
  • कड़ी मेहनत और सही दिशा में प्रयास भी बहुत जरूरी है।इसके साथ ही अपनी कमियों को स्वीकराने के लिए हमेशा तैयार रहें और उनमें समय रहते सुधार करें।
  • प्रैक्टिस इस एग्जाम के लिए बहुत जरूरी है इसलिए जमकर अभ्यास करना न भूलें।अपनी एग्जाम स्ट्रेटजी अपनी कमजोरी और ताकत के अनुसार बनाएं और लोगों से लगातार फीडबैक लेते रहें।
  • मेहनत करें पर रिजल्ट को लेकर बहुत परेशान न हों। जब प्रयास सही दिशा में होते हैं तो सफलता भी जरूर मिलती है।

अगर आपको हमारा यह video और blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa


UPSC IN NEWS : Coal Crisis in India | क्यों हो रहा है भारत में कोयला संकट ? ||UPSC || Prabhat Exam

क्यों हो रहा है भारत में कोयला संकट? 


नमस्कार स्वागत है आपका हमारे Prabhat Exam Ke Blog पर। ये एक ऐसा PLATFORM है , जहां आपको मिलती है सभी COMPETITIVE EXAM से जुडी महत्वपूर्ण जानकरिया, जो आपकी किसी भी EXAM में सफल होने में काफी मदद करता है। अगर आप हमारे Blog नए है तो  तो हमें LIKE और SUBSCRIBE ज़रूर करे। दोस्तों आज के इस BLOG में हम बात करेंगे क्यों हो रहा है भारत में कोयला संकट?


  • घरेलू कोयले की आपूर्ति में आ रही बाधाओं के कारण देश में उभरते ऊर्जा संकट का सामना करने के लिए, केंद्र सरकार ने ‘सम्मिश्रण उद्देश्यों’ सहित बिजली उत्पादन के लिए आयातित कोयले के उपयोग को बढ़ाने के लिए कई कदम उठाने का फैसला किया है।
 इस संकट से उबरने के लिए सरकार द्वारा निम्नलिखित कदम उठाए जा रहे हैं-
  • घरेलू कोयले की मांग पर दबाव कम करने के लिए सभी कंपनियों को अपने बिजली संयंत्रों को पूरी क्षमता से संचालित करने के लिए कहा गया है।
  • केंद्र सरकार ने दिसंबर 2022 तक आयातित कोयले की लागत को ‘पास-थ्रू’ (Pass-Through) के रूप में अनुमति देने का निर्णय लिया है।
  • सरकार ने सभी राज्यों से विवेचित कोयला स्टॉक मानदंडों के अनुसार- बिजली संयंत्र में पर्याप्त कोयला स्टॉक बनाए रखने के लिए मात्र 4% के बजाय 10% की सीमा तक ‘सम्मिश्रण उद्देश्यों’ के लिए आयातित कोयले का उपयोग करने के लिए कहा है।
  • भारत, विश्व में कोयले का दूसरा सबसे बड़ा आयातक, उपभोक्ता और उत्पादक देश है, और इसके पास कोयले का दुनिया का चौथा सबसे बड़ा भंडार है। लेकिन बिजली की मांग में भारी वृद्धि- (जोकि महामारी से पहले के स्तर को पार कर चुकी है) का मतलब है कि राज्य द्वारा संचालित ‘कोल इंडिया’ द्वारा की जा रही कोयले की आपूर्ति अब पर्याप्त नहीं है।
क्या है कोयला-संकट की वर्तमान स्थिति?
  • कोयला-संकट की वर्तमान स्थिति “टच एंड गो” अर्थात ‘उपभोग करो और ख़तम’ जैसी है, और यह अगले छह महीने में काफी “असहज” हो सकती है।
  • भारत के ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले का भंडार, केवल कुछ दिनों के ईंधन की आपूर्ति कर सकता है।
  • विद्युत् मंत्रालय द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार, देश के ताप विद्युत संयंत्रों में पिछले महीने के अंत में कोयले का स्टॉक मानक आवश्यकता का केवल 36% था जो केवल लगभग 11 दिनों के लिए पर्याप्त होगा।
  • यह स्थिति काफी चिंताजनक है, क्योंकि भारत के कुल विद्युत् स्रोतों में कोयला-चालित संयंत्रों का योगदान लगभग 70% हैं।
  • यह उम्मीद की जाती है कि अप्रैल 2022 में उर्जा की चरम मांग 210 GW तक बढ़ सकती है।इसलिए, सभी कोयला आधारित बिजली संयंत्रों के पास पर्याप्त कोयला भंडार होना चाहिए, जिससे ‘पीक आवर्स’ के दौरान लगभग 160 गीगावाट तक कोयला आधारित बिजली की आपूर्ति हो सके।
क्या हैं इस कमी के कारण व कमी से पड़ने वाले प्रभाव ?
  • अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कोयले की उच्च कीमतों के कारण आयात में तेज गिरावट।
  • महामारी की दूसरी लहर के बाद बढ़ी हुई आर्थिक गतिविधियों ने कोयले की मांग में हुई वृद्धि।
  • अगर उद्योगों को बिजली की कमी का सामना करना पड़ता है, तो इससे भारत की आर्थिक बहाली में देरी हो सकती है।
  • कुछ व्यवसायों को अपने उत्पादन में कटौती करनी पड़ सकती है।
  • भारत की आबादी और अविकसित ऊर्जा बुनियादी ढांचे को देखते हुए बिजली संकट काफी लंबा और कठिन हो सकता है।
क्या है भारत की आगे की कार्रवाई?
  • ‘कोल इंडिया’ और ‘एनटीपीसी लिमिटेड’ द्वारा कोयला खानों से उत्पादन बढ़ाने के लिए काम किया जा रहा है।
  • सरकार द्वारा ‘आपूर्ति’ में वृद्धि करने हेतु और अधिक खदानों को चालू करने का प्रयास किया जा रहा है।
  • अधिक वित्तीय लागत होने के बावजूद, भारत को अपने आयात को बढ़ाने की आवश्यकता होगी।
कोयला क्षेत्र में हुए हालिया सुधार?
  • कोयले के वाणिज्यिक खनन की अनुमति दी गयी है, निजी क्षेत्र को 50 ब्लॉकों में खनन करने का प्रस्ताव दिया गया है।
  • बिजली संयंत्रों को “धोए गए” कोयले का उपयोग करने के लिए आवश्यक विनियमन को हटाकर इस क्षेत्र में प्रवेश मानदंडों को उदार बनाया जाएगा।
  • निजी कंपनियों को ‘निश्चित लागत’ के स्थान पर ‘राजस्व बंटवारे’ के आधार पर कोयला ब्लॉकों की पेशकश की जाएगी।
  • राजस्व हिस्सेदारी में छूट के माध्यम से ‘कोयला गैसीकरण/द्रवीकरण’ को प्रोत्साहन दिया जाएगा।
  • कोल इंडिया की कोयला खदानों से ‘कोल बेड मीथेन’ (CBM) निष्कर्षण अधिकार नीलाम किए जाएंगे।
                
कोयला क्षेत्र में आने वाली आगे की चुनौतियां?
  • कोयला, भारत में सबसे महत्वपूर्ण और प्रचुर मात्रा में उपलब्ध जीवाश्म ईंधन है। यह देश की ऊर्जा जरूरतों के 55% की आपूर्ति करता है। देश की औद्योगिक विरासत, स्वदेशी कोयले पर टिकी हुई है।
  • पिछले चार दशकों में भारत में वाणिज्यिक प्राथमिक ऊर्जा खपत में लगभग 700% की वृद्धि हुई है।
  • भारत में वर्तमान प्रति व्यक्ति वाणिज्यिक प्राथमिक ऊर्जा खपत लगभग 350 किग्रा/वर्ष है जो विकसित देशों की तुलना में काफी कम है।
  • बढ़ती आबादी, वृद्धिशील अर्थव्यवस्था और जीवन की बेहतर गुणवत्ता की तलाश से प्रेरित, भारत में ऊर्जा के उपयोग में वृद्धि होने की उम्मीद है।
  • पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस की सीमित भंडार क्षमता, जलविद्युत परियोजना पर पर्यावरण संरक्षण प्रतिबंध और परमाणु ऊर्जा की भू-राजनीतिक धारणा को ध्यान में रखते हुए, कोयला, भारत के ऊर्जा परिदृश्य के केंद्र पर बना रहेगा।
अगर आपको हमारा यह video और Blog पसंद आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर Share करें, और अगर आपके पास हमारे लिए कोई सवाल है, तो उसे Comment में लिखकर हमें बताएँ। जल्द ही आपसे फिर मुलाकात होगी एक नए topic पर एक नए video के साथ।

देखते रहिए 
Prabhat Exam 
नमस्कार

You Can Buy Our Books online or call us- Whatsapp

👉 UPSC Books : https://amz.run/5Qxh

👉 GENERAL KNOWLEDGE Books : https://amz.run/5Qz2

👉 OTHER GOVERNMENT EXAMS : https://amz.run/5Qz

👉 IIT JEE & NEET AND ALL OTHER ENGINEERING & MEDICAL ENTRANCES : https://amz.run/5Qz6

👉 SSC Examination Books : https://amz.run/5Qz7

👉 DSSB Books : https://amz.run/5Qz9

👉 BANKING/INSURANCE EXAMS : https://amz.run/5QzC

👉 RRB, RRC, RPF/RPSF, NTPC & LEVEL-1 : https://amz.run/5QzF

👉 UGC BOOKS : https://amz.run/5QzH

👉 NVS BOOKS : https://amz.run/5QzJ

👉 BIHAR BOOKS : https://amz.run/5QzK

👉 *Rajasthan Books : https://amz.run/5QzP

👉 MADHYA PRADESH : https://amz.run/5QzR

👉 UTTAR PRADESH  :https://amz.run/5RAa